उत्तरप्रदेश। उत्तर प्रदेश में अब मदरसों पर सरकार की खास नजर होगी। मदरसों से संबंधित सभी डीटेल सरकार के पास मौजूद होगी और इन पर निगरानी भी रखी जाएगी। सरकार ने यह निर्णय बिजनौर के एक मदरसे से हथियार बरामद होने के बाद लिया है। हथियारों की बरामदगी के बाद मदरसों की गुणवत्ता पर सवाल उठ रहे थे। यहां तक की कुछ लोगों ने ऐसे मदरसों को बंद तक करने की अपील की थी, लेकिन अब सरकार ने रास्ता निकालते हुए मदरसों की मॉनिटरिंग का फैसला किया है।

मदरसों में पढ़े बच्चे भी बनें आईएएस, डॉक्टर और इंजीनियर

मदरसों की निगरानी के संबंध में राज्य मंत्री मोहसिन रजा ने कहा कि हम हमेशा से ही मदरसों की गुणवत्ता पर काम करते रहे हैं। सरकार की कोशिश है कि मदरसे में पढ़ने वाले बच्चे भी आईएएस, डॉक्टर, इंजीनियर बन सकें। इसके लिए हम लगातार इस तरफ ध्यान दे रहे हैं। मदरसों में एनसीईआरटी की किताबें लागू करने के साथ ही सभी आधुनिक सुविधाएं वहां पर उपलब्‍ध करवाने का काम सरकार कर रही है।

मांगी सभी मदरसों की जानकारी

सूचना के अनुसार सरकार ने प्रदेश में मौजूद सभी मदरसों की जानकारी जिला अल्पसंख्यक अधिकारियों से मांगी है। अधिकारियों को निजी और सरकारी सभी मदरसों की पूर्ण जानकारी देनी होगी। इस दौरान मोहसिन ने कहा कि सूबे में कई मदरसे ऐसे हैं जो मानकों को पूरा नहीं करते हैं और इनका बंद होना जरूरी है। सरकार ऐसे मदरसों पर पूर्ण तौर पर अंकुश लगाएगी।

मदरसा संचालकों ने किया विरोध

वहीं सरकार के ‌इस फैसले के खिलाफ मदरसा संचालक आ गए हैं। उनका कहना है कि बिजनौर में जो हुआ वह गलत था और ऐसे में कार्रवाई होनी जरूरी है। लेकिन एक मदरसे के नाम पर सभी मदरसों को निशाना बनाना गलत है। मदरसा संचालक मौलाना हारून ने कहा कि सरकार की नजर में सिर्फ मदरसे ही खटकते हैं इसलिए घूमफिर कर मदरसों को ही एजेंडा बनाया जाता है, जबकि सरकार को चाहिए कि मदरसों के हालात बेहतर करने के जो वादे किए गए थे उन्हें पूरा किया जाए।

By Soni Smt. Sheela

सम्पादक : प्रचंड छत्तीसगढ़, मासिक पत्रिका, राजधानी रायपुर से प्रकाशित। RNI : CHHHIN/2013/48605 Wisit us : https://www.pc36link.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.