National

थाने में खड़ी गाड़ी से पिकनिक मनाना पुलिस वालों को पड़ गया भारी।

थानों में विभिन्न मामलों में जप्त गाड़ियों का पुलिस वाले किस कदर नाजायज फायदा उठाते हैं, इसका एक तरोताजा मामला लखनऊ के गोमती नगर थाने से प्रकाश में आया है। सोशल मीडिया (whatsapp) के माध्यम से उजागर यह समाचार पुलिस विभाग में पदस्थ आरक्षकों और दारोगाओं की पोल खोल रही है।

लखनऊ। दरअसल खबर के मुताबिक मामला यह है कि, रविवार को पैसों के लेनदेन में हुए झगड़े में पुलिस राह चलते युवक की गाड़ी जप्ती बनाकर थाना ले आई थी। और फिर उसी गाड़ी में थाने के कुछ स्टॉफ पिकनिक मनाने लखीमपुर गई थी। जिसकी जानकारी गाड़ी मालिक को लगते ही उसने GPS से गाड़ी लॉक कर दी। अब लखीमपुर गई GN पुलिस टीम गाड़ी में बंद है और गोमतीनगर पुलिस; गाड़ी मालिक से मान-मनौवल में जुटी हुई है।

फोटो : साभार गूगल।

खबर यह भी है कि जैसे ही उक्त बातों की जानकारी कमिश्नर को हुई उन्होंने तत्काल प्रभाव से SHO गोमतीनगर को लाइनहाजिर कर दिया।

Dinesh Soni

जून 2006 में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा मेरे आवेदन के आधार पर समाचार पत्र "हाइवे क्राइम टाईम" के नाम से साप्ताहिक समाचार पत्र का शीर्षक आबंटित हुआ जिसे कालेज के सहपाठी एवं मुँहबोले छोटे भाई; अधिवक्ता (सह पत्रकार) भरत सोनी के सानिध्य में अपनी कलम में धार लाने की प्रयास में सफलता की ओर प्रयासरत रहा। अनेक कठिनाइयों के दौर से गुजरते हुए; सन 2012 में "राष्ट्रीय पत्रकार मोर्चा" और सन 2015 में "स्व. किशोरी मोहन त्रिपाठी स्मृति (रायगढ़) की ओर से सक्रिय पत्रकारिता के लिए सम्मानित किए जाने के बाद, सन 2016 में "लोक स्वातंत्र्य संगठन (पीयूसीएल) की तरफ से निर्भीक पत्रकारिता के सम्मान से नवाजा जाना मेरे लिए अत्यंत सौभाग्यजनक रहा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button