एनआरसी और सीएए को लाकर मोदी-शाह की जोड़ी ने देश में गृहयुद्ध की स्थिति निर्मित कर दिया है। इसे लेकर समूचा देश हिंसा की आग में जूझ रहा है, देश/समाज के रक्षकों (पुलिस) के साथ कुछ उत्पाती ? मुंह में रुमाल बांध हिंसा बरपा रहे हैं ! उस पर देश के कुछ नालायक जनप्रतिनिधियों के बोलबच्चन आग में घी डालने का काम कर रहे हैं !

अनेक राज्य सरकारें एनआरसी और सीएए को लेकर विरोध जता रहे हैं जिसमें हमारा छत्तीसगढ़ भी शामिल है। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि “अगर देश में एनआरसी लागू हुआ तो मैं एनआरसी रजिस्टर पर हस्ताक्षर नहीं करूंगा।”

इसी कड़ी में तमिलनाडु में भी विरोध किया जा रहा है, जहाँ से सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (एसडीपीआई) की ओर से आहूत एक बैठक में कई दिग्गज नेता पहुँचे जहाँ पर कांग्रेस नेता नेल्लई कन्नन भी मौजूद थे। मीडिया के माध्यम से खबर मिली है कि इस बैठक में उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह के बारे जो कुछ भी कहा उसे लेकर चाटूकार मीडिया ने बवाल मचाना चालू कर दिया है !
“मीडिया के अनुसार; नेल्लई कन्नन ने आयोजित बैठक में कहा – “मैं हैरान हूँ, कि मुस्लिमों ने अब तक प्रधानमंत्री और गृहमंत्री की हत्या क्यों नहीं की !”

देश के संविधान में सभी को “अभिव्यक्ति की आजादी” का अधिकार है; और इसके तहत यदि कोई आश्चर्य व्यक्त कर दे तो क्या किसी को उस पर किसी संवैधानिक पद पर आसित व्यक्ति को जान से मारने का आरोप मढ़कर उसके खिलाफ जेल का रास्ता अख्तियार करने का अधिकार किसने दिया ?

कन्नन के उक्त टिप्पणी को लेकर सत्ता दल से जुड़े लोगों ने हंगामा मचाना शुरू कर दिया है, जबकि कन्नन ने हैरानी व्यक्त की है। यदि ऐसा ही होना है और कन्नन के खिलाफ किसी तरह का मामला बनता है तो फिर भाजपा के अनेक ऐसे नेता हैं जिनके द्वारा गाहे-बगाहे देश विरोधी बयान आते रहे हैं और इन नेताओं के बयान ने देश मे हिंसा को बढ़ावा देने की आग में घी डालने का कृत्य किया है।

दरअसल छल से सत्ता हथियाकर देश में काबिज कुछ मुठ्ठीभर अपराधी किस्म के सफेदपोश इस देश के टुकड़े करने में लगे हुए हैं। और इन पर जब किसी प्रकार की उंगली उठने लगे तो ये शातिर लोग देश की दशा दिशा को बदलकर कभी मंदिर-मस्जिद की ओर ले जाते हैं तो कभी सर्जिकल स्ट्राइक जैसा कोई नया हथकंडा अपना लेते हैं और विपक्ष खामोशी की चादर ओढ़; कान में रुई ठूंस लेता है…!

हालिया ही हरियाणा राज्य के कैथल से भाजपा के एक विधायक लीला राम गुज्जर ने यह कहा है कि – “जो लोग एनआरसी और सीएए का विरोध कर रहे हैं; उनका सफाया एक घंटे में किया जा सकता है !”
आप भी देख /सुन लीजिए लीलाराम गुज्जर के कथन को लेकर जनसत्ता द्वारा जारी एक वीडियो में :

 

By Dinesh Soni

जून 2006 में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा मेरे आवेदन के आधार पर समाचार पत्र "हाइवे क्राइम टाईम" के नाम से साप्ताहिक समाचार पत्र का शीर्षक आबंटित हुआ जिसे कालेज के सहपाठी एवं मुँहबोले छोटे भाई; अधिवक्ता (सह पत्रकार) भरत सोनी के सानिध्य में अपनी कलम में धार लाने की प्रयास में सफलता की ओर प्रयासरत रहा। अनेक कठिनाइयों के दौर से गुजरते हुए; सन 2012 में "राष्ट्रीय पत्रकार मोर्चा" और सन 2015 में "स्व. किशोरी मोहन त्रिपाठी स्मृति (रायगढ़) की ओर से सक्रिय पत्रकारिता के लिए सम्मानित किए जाने के बाद, सन 2016 में "लोक स्वातंत्र्य संगठन (पीयूसीएल) की तरफ से निर्भीक पत्रकारिता के सम्मान से नवाजा जाना मेरे लिए अत्यंत सौभाग्यजनक रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.