रायपुर। पूज्य शदाणी दरबार तीर्थ के नवम पीठाधीश्वर संत श्री युधिष्ठिर लाल जी महाराज के नेतृत्व में पूरे भारतवर्ष से 57 यात्रियों का जत्था 24/11/2019 से 05/12/2019 तक पाकिस्तान की यात्रा पर थे। ज्ञात हो कि पूज्य शदाणी दरबार तीर्थ स्थल से पिछले 37 वर्षों से भारत-पाकिस्तान के मध्य प्रोटोकाल एग्रीमेंट के तहत दोनों देशों के बीच तीर्थ यात्रा का आना-जाना जारी है। उसी कड़ी में इस वर्ष विगत 24 नवंबर 2019 को पूरे भारतवर्ष के 8 प्रांतों से पूज्य सदानी दरबार के नवम पीठाधीश्वर बनारस, वृंदावन और चेन्नई की पूज्य के संत गण भोपाल के दो पत्रकार, मुम्बई, नागपुर, अहमदाबाद, दिल्ली के कई विशिष्ट जन 57 तीर्थ यात्रियों का जत्था अमृतसर से बॉर्डर क्रास कर लाहौर पहुंचे।
बॉर्डर पर पाकिस्तान सरकार के तमाम अधिकारी एवं पाकिस्तान वक्फ बोर्ड के चेयरमैन एवं पूरे पाकिस्तान के श्रद्धालुओं ने संत जी एवं जत्थे का भव्य स्वागत किया। दिनांक 25 नवंबर शदाणी दरबार के आदि स्थान पूज्य हयात पिताफी सिंध पहुंचे जहां संस्थापक संत गुरु संत सदाराम साहिब जी के 311वें जन्मोत्सव के अवसर पर हवन यज्ञ एवं सनातन धर्म की ध्वजा लहरा कर महोत्सव आरंभ करवाया।
28 नवंबर 2019 को 101 बालकों का सामूहिक जनेऊ संस्कार एवं 11 सामूहिक शुभ विवाह संत जी ने संपन्न करवाएं। 27 दिसंबर को ही धर्म ग्रंथों के अखंड पाठ का समापन करवाकर वहां से संत कंवरराम स्थल जरवार होते हुए पूज्य वेद मंदिर माथेलो पहुंचे, वहां से माता मंदिर खानपुर महर, सख्खर साधु बेला तीर्थ घोटकी डहरकी होते हुए 2 दिसंबर को पूज्य शदाणी दरबार मीरपुर माथेलो पहुंचे, वहां से 4 दिसंबर को मीरपुर माथेलो से रवाना होकर 5 दिसंबर को नानकाना साहिब गुरु नानक देव जी की जन्म स्थल का दर्शन करके लाहौर से बॉर्डर क्रास करते हुए अमृतसर पहुंचे।
6 दिसंबर को सुबह 8:30 बजे दिल्ली से नियमित विमान से रायपुर एयरपोर्ट पहुंचेंगे एयरपोर्ट पर शदाणी सेवा मंडल, संत राजाराम सेवा मंडल, नगर की पूज्य सिंधी पंचायतें एवं अनेक हिंदू संगठनों द्वारा पूज्य महाराज जी एवं जत्थे का भव्य स्वागत करेंगे।

By Dinesh Soni

जून 2006 में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा मेरे आवेदन के आधार पर समाचार पत्र "हाइवे क्राइम टाईम" के नाम से साप्ताहिक समाचार पत्र का शीर्षक आबंटित हुआ जिसे कालेज के सहपाठी एवं मुँहबोले छोटे भाई; अधिवक्ता (सह पत्रकार) भरत सोनी के सानिध्य में अपनी कलम में धार लाने की प्रयास में सफलता की ओर प्रयासरत रहा। अनेक कठिनाइयों के दौर से गुजरते हुए; सन 2012 में "राष्ट्रीय पत्रकार मोर्चा" और सन 2015 में "स्व. किशोरी मोहन त्रिपाठी स्मृति (रायगढ़) की ओर से सक्रिय पत्रकारिता के लिए सम्मानित किए जाने के बाद, सन 2016 में "लोक स्वातंत्र्य संगठन (पीयूसीएल) की तरफ से निर्भीक पत्रकारिता के सम्मान से नवाजा जाना मेरे लिए अत्यंत सौभाग्यजनक रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.