“कथनी, करनी और छेड़खानी” से भयाक्रांत उम्मीदवार, बन बैठे हैं  ईव्हीएम के पहरेदार…! 

एक कार्यकर्ता की संदिग्ध मौत..!


नियमतः मतदान के बाद सभी ईवीएम (EVM) को कड़ी निगरानी में सुरक्षित कमरे में रखीं जाएं, तथा किसी भी अनाधिकृत व्यक्ति का प्रवेश अमान्य हो। तात्पर्य यह कि “परिंदा भी पर न मार सके।”
मगर…,”अविश्वसनीय छत्तीसगढ़” में यह विश्वसनीय कार्य गजब तौर पर एक तहसीलदार ने संपादित कर दिखाया !
राजधानी/धमतरी। यहां तहसीलदार ने अपने साथ अवैध तरीके से एक व्यक्ति को EVM (ईवीएम) के स्ट्रांग रूम में घुसने दिया। इस अवैधनिक कार्य को लेकर कांग्रेस नेताओं इसकी शिकायत चुनाव आयोग से की जहां शिकायत सही पाए जाने पर बुधवार देर रात धमतरी के तहसीलदार राकेश ध्रुव को निलंबित कर दिया गया है।
     आरोप है कि धमतरी के तहसीलदार ने अपने साथ अनाधिकृत व्यक्तियों को बगैर निर्वाचन आयोग व जिला निर्वाचन अधिकारी की अनुमति के स्ट्रॉंग रूम के भीतर प्रवेश करा दिया था। इस विवाद ने पिछले दो-तीन दिनों से पूरे प्रदेश के राजनैतिक गलियारे में बवंडर खड़ा कर दिया था। तमाम राजनैतिक पार्टियां; अपने-अपने तरीके से विरोध प्रदर्शन कर कार्रवाई की मांग में जुटी थी। इस मामले को लेकर छत्तीसगढ़ कांग्रेस के दिग्गज नेताओं ने प्रदेश के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुब्रत साहू से मंगलवार को ही देर रात मुलाकात कर मामले की जानकारी प्रदान कर दी थी।

कांग्रेस की शिकायत के बाद जिला निर्वाचन अधिकारी के द्वारा धमतरी से रिपोर्ट मंगवाई गई थी, शिकायत सही पाई गई। जिसके आधार पर तहसीलदार के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई की गई है।


   मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी के निर्देश पर रायपुर संभाग के कमिश्रर जी.आर. सुरेंद्र ने यह आदेश जारी किया है। आदेशानुसार तहसीलदार राकेश ध्रुव को निर्वाचन निर्देशों का उल्लंघन किए जाने के कारण निलंबित किया गया। निलंबन अवधि में ध्रुव को मुख्यालय, कलेक्टोरेट कार्यालय रायपुर में पदस्थ किया गया है।
गौरतलब है कि, 27 नवंबर को धमतरी के कलेक्ट्रेट के आगे लॉइव्हलीहुड कॉलेज में स्थापित स्ट्रॉंग रूम परिसर में अनाधिकृत व्यक्तियों के प्रवेश कराए जाने के संबंध में शिकायत आयोग से की गई थी।
“ईवीएम में छेड़छाड़” सैंया भए कोतवाल !
छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव भले ही सम्पन्न हो गया है लेकिन उम्मीदवारों को “भाजपा के कथनी तथा करनी और छेड़खानी” का डर; भूत की तरह सता रहा है।
फ़ाइल फोटो @ndtv
डर भी ऐसा कि कार्यकर्ताओं की बात छोड़िए, खुद उम्मीदवार स्ट्रांग रूम के बाहर टेंट लगाकर निगरानी करने बैठ गए हैं।

एक कार्यकर्ता की संदिग्ध मौत..!

       जशपुर जिले में मतदान के बाद स्ट्रांग रूम में जमा ईवीएम में सेंधमारी की आशंका पर रखवाली के लिए पहरा दे रहे पंकज नामक एक कांग्रेसी कार्यकर्ता की रविवार को मौत हो गई, मौत के कारण का अभी तक पता नहीं चल सका है।

देखिए वीडियो :

कांग्रेस जिलाध्यक्ष पवन अग्रवाल ने पंकज के मौत की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि पंकज कुनकुरी के कलीबा गांव का रहने वाला था। शनिवार दोपहर करीब दो बजे अचानक उसकी तबियत बिगड़ गई और उसे जिला अस्पताल जशपुर लाया गया। यहां डॉक्टरों ने उसकी गंभीर हालत को देखते हुए अम्बिकापुर रेफर कर दिया। उपचार के दौरान युवक की रविवार तड़के करीब तीन बजे मौत हो गई।

By Dinesh Soni

जून 2006 में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा मेरे आवेदन के आधार पर समाचार पत्र "हाइवे क्राइम टाईम" के नाम से साप्ताहिक समाचार पत्र का शीर्षक आबंटित हुआ जिसे कालेज के सहपाठी एवं मुँहबोले छोटे भाई; अधिवक्ता (सह पत्रकार) भरत सोनी के सानिध्य में अपनी कलम में धार लाने की प्रयास में सफलता की ओर प्रयासरत रहा। अनेक कठिनाइयों के दौर से गुजरते हुए; सन 2012 में "राष्ट्रीय पत्रकार मोर्चा" और सन 2015 में "स्व. किशोरी मोहन त्रिपाठी स्मृति (रायगढ़) की ओर से सक्रिय पत्रकारिता के लिए सम्मानित किए जाने के बाद, सन 2016 में "लोक स्वातंत्र्य संगठन (पीयूसीएल) की तरफ से निर्भीक पत्रकारिता के सम्मान से नवाजा जाना मेरे लिए अत्यंत सौभाग्यजनक रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.