तथाकथित कराटे शिक्षक द्वारा नन्हें छात्रों को बिना प्रशिक्षण के जानलेवा खेल में उतारा जा रहा है।

*दिनेश जोल्हे
रायगढ़। विकास खण्ड सारंगढ के आने वाले नाचनपाली में शिक्षक लक्ष्मी नायक द्वारा खुद से नियम बनाकर शासन को झुकाने में लगा है।
शासकीय कार्यालयों या फिर पाठशालाओं में स्वंतत्रता सेनानीयों का प्रतिमा उनके बलिदानो को लेकर रखा जाता है या उनको मार्गदर्शक मानते हुए याद किया जाता है जिससे देख कर हम सब को ऊर्जा मिलती हैं और हम सब उनके कार्यों का अनुशरण करते हैं लेकिन सारंगढ विकास खण्ड के अंतर्गत प्राथमिक शाला नाचनपाली में उसके विपरीत परिस्थितियां नजर आ रही है।
आपको बता दें कि, प्रधान पाठक लक्ष्मी प्रसाद नायक द्वारा अपने खुद की तस्वीरों को पाठशाला के सभी कक्ष में फूलों की तरह सजाया गया है जो छात्रों को ध्यान भटकाने में अहम भूमिका निभा रहा है लक्ष्मी नायक न तो स्वतंत्रता सेनानी है और न ही कोई विशेष कार्यों के धनी फिर भी नीति नियमों को ताक में रखते हुए शिक्षक होकर भी गंदगी फैलाने के कार्य कर रहे हैं।
स्थानीय लोगों द्वारा बताया जा रहा है लक्ष्मी नायक फर्जी प्रशस्ति पत्र बनवाने में माहिर हैं हैरान कर देने वाली बात तो यह है बिना प्रशिक्षण के भी रुपये के दम पे प्रशिक्षण प्रमाण पत्र बनवा चुका है। कभी जशपुर जॉन का तो कभी राष्ट्रीय स्तर का अब तो नन्हें छात्र छात्राओं को भी झूठा दिलासा दिला कर “किक बॉक्सिंग” जैसे खेल में बिना प्रशिक्षण दिए राज्य लेबल का खेल खेलाने लगा है, जिसकी जानकारी खेल व व्यायाम शिक्षक को भी नहीं है और न ही अमुख तिथि में स्कूल स्तरीय खेल संचालित हुआ है।
अवगत हो कि 25 जुलाई से 29 तक 6 से 7 छात्र छात्राओं को विभागीय अनुमति बिना डोंगरगढ़ ले जाया गया था और प्रत्येक बच्चों से 2 हजार रुपये लिया गया था जो निदनीय है जब कि पूरे राज्य में छात्र-छात्राओं के खेल खेलने को लेकर शासन द्वारा विभाग को बजट उठाने कमान सौंपा गया है उसके बावजूद भी लक्ष्मी प्रसाद नायक द्वारा स्कूलीय बच्चों से अवैध उगाही की जा रही है।
बच्चों व शिक्षकों ने बताया नवम्बर 2019 में राष्ट्रीय स्तर का “किक बॉक्सिंग” खेल कोलकाता में संचालित होना है जिसके लिए प्रत्येक बच्चों से 5 हजार रुपये अवैध उगाही की तैयारी जोरों पे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *