जनता कांग्रेस छत्तीसगढ (जे) प्रदेश अध्यक्ष श्री अमित जोगी ने करा बड़ा ख़ुलासा: शासकीय आयुर्वेदिक कॉलेज रायपुर और बिलासपुर में प्रोफेसर और रीडर के सभी पद आउटसोर्सिंग से अन्य राज्यों के उम्मीदवारों द्वारा भरे गए।

आयुर्वेदिक कॉलेज रायपुर और बिलासपुर में चल रहा है इंटरव्यू का बड़ा खेल- 13 सालों में इंटरव्यू पर फूंक दिए 25 लाख लेकिन एक भी स्थानीय को नियुक्ति नहीं, स्वास्थ विभाग को इसकी जाँच करनी चाहिए

पीएससी के माध्यम से इन पदों पर रेगुलर नियुक्ति क्यों नहीं होती ?
विधानसभा के मानसून सत्र में जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) आउटसोर्सिंग रोकने के लिए अशासकीय संकल्प और प्राइवेट मेंबर बिल लाएगी

मुख्यमंत्री को जब छत्तीसगढ़ वासियों की चिंता नहीं है उन्हें तो बेहतर होगा कि वे दिल्ली प्रवास को विस्तारित कर दिल्ली में ही बस जाएँ

अमित जोगी
रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) प्रदेश अध्यक्ष श्री अमित जोगी ने दस्तावेज़ जारी करते हुए भूपेश सरकार को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि शासकीय आयुर्वेदिक कॉलेज रायपुर और बिलासपुर में प्रोफेसर और रीडर के सभी पद आउटसोर्सिंग से अन्य राज्यों के उम्मीदवारों द्वारा भरे गए हैं। अमित जोगी ने सीधे मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल और स्वास्थ मंत्री श्री टी.एस. सिंहदेव से पूछा कि क्या उनकी नज़र में छत्तीसगढ़ के लोग उच्च पदों के योग्य नहीं हैं ? जब मध्य प्रदेश, उड़ीसा और राजस्थान जैसे अन्य राज्यों की भर्ती में स्थानीय भाषा और उस प्रदेश के सामान्य ज्ञान होना आवश्यक है, तो ऐसा छत्तीसगढ़ में क्यों नहीं ?
अमित जोगी ने स्वास्थ विभाग पर आरोप लगाते हुए कहा कि आयुर्वेदिक कॉलेज रायपुर और बिलासपुर में इंटरव्यू के नाम पर बड़ा खेल चल रहा है: RTI से प्राप्त सूचना के अनुसार 13 सालों में इंटरव्यू पर विभाग ने 25 लाख रुपए फूंक दिए लेकिन एक भी स्थानीय व्यक्ति को नियुक्ति नहीं दी गई है। इंटरव्यू के नाम पर केवल अन्य राज्यों से विशेषज्ञों को बुलाकर आयुष विभाग लाखों रुपए बरबाद करके उनकी खातिरदारी करता है। अमित जोगी ने कहा कि ‘स्वशासी मद’ की राशि का छात्रहित में उपयोग होना चाहिए लेकिन यहाँ इंटरव्यू के नाम पर पूरी राशि डकार ली जाती है। अमित जोगी ने इस पूरे भ्रष्टाचार की जाँच करने की माँग की है।
अमित जोगी ने भूपेश सरकार से सवाल करा कि आख़िर पीएससी के माध्यम से इन पदों पर रेगुलर नियुक्ति क्यों नहीं होती ? जब मेडिकल कॉलेज में इंटरव्यू के लिए स्थानीय विशेषज्ञ बुलाये जाते हैं, तो आयुर्वेदिक कॉलेज में इंटरव्यू के नाम पर बाहर से विशेषज्ञों का ताम-जाम क्यों किया जाता ह? क्या छत्तीसगढ़ के पास इंटरव्यू के विशेषज्ञ नहीं है?
अमित जोगी ने बताया कि विधानसभा के मानसून सत्र में जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) आउटसोर्सिंग रोकने के लिए विधान सभा सचिवालय को अशासकीय संकल्प और प्राइवेट मेंबर बिल प्रेषित कर चुकी है।
अमित जोगी ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को जब छत्तीसगढ़ियों की चिंता ही नहीं है और उन्हें तो दूसरे राज्यों के हितों की ज्यादा परवाह है, तो बेहतर होगा वे दिल्ली प्रवास को विस्तारित कर दिल्ली में ही बस जाएँ।

दस्तावेज़ों की लिंक: https://drive.google.com/…/1wUkOqpWMecDqAXPnZcR-cGifB…/view…https://drive.google.com/…/1Lr1dC5k3wpSe-dd8T57NdGFnp…/view…https://drive.google.com/…/1lZlYUrilKVvk-NmD3NFDl7PL0…/view…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *