किरीट ठक्कर
गरियाबंद। लो वोल्टेज और शराब की बढी कीमत कांग्रेस के लिये मुसीबतों का पहाड साबित न हो जाए। महासमुंद लोकसभा क्षेत्र के कांग्रेस उम्मीदवार धनेन्द्र साहू प्रचार प्रसार जनसम्पर्क में भाजपा प्रत्याशी चून्नी लाल साहू से आगे चल रहे हैं।
धनेन्द्र साहू सीधे सरल मिलनसार नेता के रूप में जाने पहचाने जाते हैं। धनेन्द्र साहू को राजनीति का लंबा अनुभव भी है। विधानसभा चुनाव में कांग्रेस का बिजली बिल हाफ के चुनावी घोषणा पत्र से आम जनता बेहद खुश थी, किंतु बिजली बिल हाफ के बजाए, अब बिजली ही हाफ मिलने लगी है ! बिल हाफ की खुशी, अब मायूसी में बदल रही है। आम जनता और किसानों में मायूसी के साथ-साथ आक्रोश पनप रहा है। लो वोल्टेज के चलते रबी फसल सूखने लगी है। गेहूं की फसल बर्बाद होने के कारण किसानों के चेहरे मुरझा गये है, महासमुंद लोकसभा क्षेत्र के ग्रामीण क्षेत्रों में समय बे-समय अघोषित बिजली कटौती, लो वोल्टेज से किसानों में कांग्रेस सरकार के खिलाफ भारी नाराजगी है, वही दूसरी ओर प्रदेश सरकार ने पचास शराब दुकानें बंद करने की बात कही थी, दुकाने बंद तो नही हुयी, उल्टा शराब की बढी कीमत से मदिरा प्रेमियों में नाराजगी देखी जा रही है। लोगों का कहना है की कर्ज माफी की वसूली सरकार शराब की कीमत बढाकर कर रही है। बिजली की आंख मिचौली लो वोल्टेज और शराब की बढी कीमत कही कांग्रेस के लिये मुसीबतों का पहाड ना साबित हो जाए। वैसे भी महासमुंद से कांग्रेस के लोकसभा प्रत्याशी धनेन्द्र साहु महासमुंद लोकसभा क्षेत्र के मतदाता नही है। दूसरी बात ये की धनेन्द्र साहु ने विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के बागी प्रत्याशीयो को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से मिलावाकर कांग्रेस के पक्ष में काम करने के लिए राजी करवाया। अब इस बात से विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के हारे हुए प्रत्याशीयो एवं समर्थकों में नाराजगी हो सकती है।

By Dinesh Soni

जून 2006 में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा मेरे आवेदन के आधार पर समाचार पत्र "हाइवे क्राइम टाईम" के नाम से साप्ताहिक समाचार पत्र का शीर्षक आबंटित हुआ जिसे कालेज के सहपाठी एवं मुँहबोले छोटे भाई; अधिवक्ता (सह पत्रकार) भरत सोनी के सानिध्य में अपनी कलम में धार लाने की प्रयास में सफलता की ओर प्रयासरत रहा। अनेक कठिनाइयों के दौर से गुजरते हुए; सन 2012 में "राष्ट्रीय पत्रकार मोर्चा" और सन 2015 में "स्व. किशोरी मोहन त्रिपाठी स्मृति (रायगढ़) की ओर से सक्रिय पत्रकारिता के लिए सम्मानित किए जाने के बाद, सन 2016 में "लोक स्वातंत्र्य संगठन (पीयूसीएल) की तरफ से निर्भीक पत्रकारिता के सम्मान से नवाजा जाना मेरे लिए अत्यंत सौभाग्यजनक रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.