रायपुर। छत्तीसगढ़ तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ कबीरधाम ने राज्य निर्वाचन आयोग के साथ कबीरधाम जिला के स्थानीय निर्वाचन अधिकारी एवं जिला कलेक्टर को आवेदन देकर मांग किया है, जिसमें संघ की ओर से लिखा गया है कि निर्वाचन कार्य में समाग्री वितरण वापसी लगाये गये अधिकारी/कर्मचारीयो को पीठासीन की तरह मानदेय प्रदाय नही किया जाता है जबकि तृतीय वर्ग के कर्मचारीयो को 3 दिन ड्यूटी रात्रि जागरण भी करना पड़ता है जिसके कारण निर्वाचन कार्य में लगे कर्मचारीयो का मनोबल गिरता है एवं ग्राम पंचायत सचिवो का वाहन प्रभारी में ड्यूटी लगाया जाता है लेकिन मानदेय के नाम पर महज खानापूर्ति जैसे रकम दी जाती है।

राज्य निर्वाचन आयोग ने पिछले 27 अप्रैल को लोकसभा चुनाव के दौरान रायगढ़ संसदीय सीट के लिए रायगढ़ के पांचो विस में 1470 मतदान केंद्र बनाए गये थे जिसमें पीठासीन अधिकारी को 1200, सहयोगी कर्मचारी को 900, बीएलओ 750, सेक्टर अधिकारी को 1500, तृतीय वर्ग को 500, चतुर्थ वर्ग को 300 रूपये मानदेय की बात कही गई थी।

छत्तीसगढ़ तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ ने छत्तीसगढ़ निर्वाचन आयोग और कबीरधाम के कलेक्टर से अनुरोध करते हुए कहा है कि भेदभाव ना करते हुए सामग्री वितरण में लगाये गए अधिकारी/कर्मचारीयो को 1500 रूपये मानदेय प्रदाय किया जाये।

By Dinesh Soni

जून 2006 में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा मेरे आवेदन के आधार पर समाचार पत्र "हाइवे क्राइम टाईम" के नाम से साप्ताहिक समाचार पत्र का शीर्षक आबंटित हुआ जिसे कालेज के सहपाठी एवं मुँहबोले छोटे भाई; अधिवक्ता (सह पत्रकार) भरत सोनी के सानिध्य में अपनी कलम में धार लाने की प्रयास में सफलता की ओर प्रयासरत रहा। अनेक कठिनाइयों के दौर से गुजरते हुए; सन 2012 में "राष्ट्रीय पत्रकार मोर्चा" और सन 2015 में "स्व. किशोरी मोहन त्रिपाठी स्मृति (रायगढ़) की ओर से सक्रिय पत्रकारिता के लिए सम्मानित किए जाने के बाद, सन 2016 में "लोक स्वातंत्र्य संगठन (पीयूसीएल) की तरफ से निर्भीक पत्रकारिता के सम्मान से नवाजा जाना मेरे लिए अत्यंत सौभाग्यजनक रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.