सच की तह से : भाजपा के विधायक और कांग्रेस के तथाकथित 13वें मंत्री को लौटना पड़ा बैरंग…? देखिए वीडियो।

रायपुर (hct)। भाजपा के दिग्गज मंत्री और वर्तमान विधायक बृजमोहन अग्रवाल (जिसे कांग्रेस में 13वें मंत्री के रूप में मान्यता है) को उनके ही विधायिकी क्षेत्र में एक सामुदायिक भवन के लोकार्पण कार्यक्रम में मोहल्लेवासियों के विरोध का सामना करना पड़ गया। उस वक्त का एक वीडियो वायरल हुआ है। आपको बता दें कि उनके साथ इस लोकार्पण समारोह कार्यक्रम में सांसद सुनील सोनी और रायपुर के महापौर प्रमोद दुबे के साथ-साथ भाजपा-कांग्रेस के जाने-पहचाने कार्यकर्त्ता भी बड़ी संख्या में उपस्थित थे।
जानकारी मिली है कि बृजमोहन अग्रवाल, ब्राह्मणपारा वार्ड क्रमांक 44 में जिस कार्यक्रम में पहुंचे थे। वहाँ उन्हें एक सामुदायिक भवन और गार्डन का लोकार्पण करना था। इस वार्ड में भाजपा के पार्षद; आकाश दुबे है। आकाश दुबे पर मोहल्लेवासियों का आरोप है कि; आकाश दुबे जब से पार्षद बना है, उसके द्वारा शासन के मद से निर्मित सामुदायिक भवन पर कब्ज़ा कर लिया है; और उसके एक कमरे में कंप्यूटर वगैरह लगा रखा है तथा उससे लगा एक गार्डन है जिस पर पार्षद आकाश दुबे ने ताला लगाकर रखा है। भवन के आड़ में किसी सार्वजानिक कार्यक्रम के अवसर पर उसे किराया में देकर अवैध वसूली करता है, लोगों को डरता-धमकाता है। इन तमाम बातो को लेकर काफी समय से लोगो में आक्रोश था।
“हाईवे क्राइम टाईम” ने जब इसकी सच्चाई को जानने की कोशिश की तो जो बातें सामने आई; वह यह कि, अभी हाल ही में महिला समूह के नाम से किसी योजना के तहत 30 लाख की राशि से बनी नई भवन जिसका लोकार्पण होना था। लोगो को यह गुमान हो गया था कि पूर्व में बने पार्षद के कब्जे वाले उक्त भवन का ही लोकार्पण माननीय के हाथों होने वाला है की शंका के चलते महिलाएं विरोधस्वरूप भवन के सामने बैठ गई, और कहने लगे कि आप इस भवन का उद्घाटन न करे।

 

बृजमोहन अग्रवाल महिलाओं को समझाते रह गए कि यह भवन आप ही लोगों का काम आएगा, यहाँ लगा कम्प्यूटर को अन्यत्र भवन में शिफ्ट कर दिया जाएगा और जो कम्प्यूटर है भी वह आपके ही बच्चों का काम आएगा…., लेकिन विरोधकर्ता महिलाओं ने उनके बातों पर विश्वास नहीं किया। मौके पर महापौर प्रमोद दुबे भी मौजूद थे, उसने भी महिलाओं को समझाने की कोशिश की लेकिन महिलाओं ने उनकी भी एक नहीं सुनी। मिन्नतों के बाद भी सामुदायिक भवन और गार्डन का लोकार्पण करने नहीं होने दिया और पूर्व मंत्री, सांसद और महापौर को बैरंग वापस लौटना पड़ा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *