उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा में लड़की का बुलेट चलाना दबंगों को रास नहीं आया दरअसल, एक पिता ने अपनी बेटी को बुलेट चलाने को दी, जिसके बाद दबंगों ने युवती को बुलेट चलाने से मना किया और उसके पिता को समझाने की कोशिश भी की। जब वह नहीं मानी तो उसके पिता के साथ मारपीट कर उसके ऊपर फायरिंग कर दी।

यूपी (hct)। मामला ग्रेटर नोएडा के जारचा थाना क्षेत्र के मिलक खटना गांव का है। गांव के निवासी सुनील कुमार पेशे से किसान है। उनकी चार बेटियां और दो बेटे है। छोटी बेटी दादरी के एक कॉलेज में पढ़ती है। पढ़ाई के लिए वह बस से दादरी जाती थी। पिता की लाडली बेटी ने बस से कॉलेज जाने में परेशानी होने की बात कही। फिर पिता ने उसे नई बुलेट दिला दी।
लडक़ी के पिता की मानें तो 31 अगस्त को वह बुलेट पर दूध खरीदने के लिए बाजार गई थी।
प्रतीकात्मक छायाचित्र
सुनील कुमार ने बताया कि दुकान जाते समय गांव के कुछ युवकों ने उसे रोका और बाइक नहीं चलाने के लिए कहा। जब उसने कारण पूछा, तो आरोपियों ने कहा कि उन्हें लड़कियों का बाइक चलाना पसंद नहीं है। साथ ही गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी भी दी। पश्चात दबंगों ने लड़की के घर जाकर पिता के ऊपर फायरिंग किए जाने की भी जानकारी मिली है। जिसकी शिकायत लड़की के पिता ने जारचा थाने में जाकर की।
जारचा के थाना प्रभारी अनिल कुमार ने मीडिया को जानकारी दी कि, प्रथमदृष्टया यह मामला लड़की के बाइक चलाने का विरोध करने और परिवार को धमकी देने समेत अन्य कारणों को लेकर दर्ज किया गया है। उन्होंने बताया कि मामले की जांच की जा रही है और आरोपियों को पकड़ने के प्रयास किए जा रहे हैं।

By Dinesh Soni

जून 2006 में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा मेरे आवेदन के आधार पर समाचार पत्र "हाइवे क्राइम टाईम" के नाम से साप्ताहिक समाचार पत्र का शीर्षक आबंटित हुआ जिसे कालेज के सहपाठी एवं मुँहबोले छोटे भाई; अधिवक्ता (सह पत्रकार) भरत सोनी के सानिध्य में अपनी कलम में धार लाने की प्रयास में सफलता की ओर प्रयासरत रहा। अनेक कठिनाइयों के दौर से गुजरते हुए; सन 2012 में "राष्ट्रीय पत्रकार मोर्चा" और सन 2015 में "स्व. किशोरी मोहन त्रिपाठी स्मृति (रायगढ़) की ओर से सक्रिय पत्रकारिता के लिए सम्मानित किए जाने के बाद, सन 2016 में "लोक स्वातंत्र्य संगठन (पीयूसीएल) की तरफ से निर्भीक पत्रकारिता के सम्मान से नवाजा जाना मेरे लिए अत्यंत सौभाग्यजनक रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.