ChhattisgarhCrime

महिला से कर छेड़छाड़, मुख्य नगरपालिका अधिकारी फरार…

विनोद नेताम
(संवाददाता)
बालोद। नगर पंचायत डौंडी लोहारा का प्रभारी मुख्य नगर पालिका अधिकारी, रामकुमार कोलियारे द्वारा दिनांक 19/07/2019 को शराब के नशे में चूर होकर डौंडीलोहारा थाना क्षेत्र में निवासरत एक महिला के घर रात लगभग 11 बजे घुसकर बलात छेड़छाड़ करने का मामला प्रकाश में आया है। आपको बता दें कि उस वक्त महिला का पति घर में ही काम से लौटकर अपने कमरे में सो रहा था, और महिला जोकि सिलाई का काम करती है अपने कार्य में लीन थी।
मुख्य नगरपालिका अधिकारी, रामकुमार कोलियारे
अचानक एक बाहरी व्यक्ति का घर में प्रवेश करने और अकेले देखकर बदनीयती के इरादे से उसके साथ जबरदस्ती पर उतारू हो गया। उसके इस हरकत से डरी महिला ने पास ही कमरे में सो रहे अपने पति को आवाज लगाई। हड़बड़ाहट में आकर जब उसके पति ने देखा तो साहब फूल टल्ली थे और महिला को अपने बाँहों में लेने की पुरजोर कोशिश में था इस समय तक बचाव में उक्त महिला के कपडे भी फटने के कगार में था।
महिला के पति ने “हाईवे क्राइम टाइम” के प्रतिनिधि को रूबरू होकर बताया कि रामकुमार ने उसके पत्नी के हाथ-बांह को पकड़कर जबरदस्ती करने का प्रयास कर रहा था। उसके द्वारा रामकुमार से अपनी पत्नी को छुड़ाने का प्रयास किया तो वह छोड़ नहीं रहा था तथा शराब के नशे में अनाप-शनाप गाली-गलौच करते हुए अश्लीलता पर उतर आया था और हाथापाई करने लगा। काफी विरोध और मशक्क्त के बाद शोरगुल मचने और बदनामी के डर से अंत में वह फरार हो गया। पीड़ित महिला के पति ने जानकारी दिया कि डर व दहशत में देर रात, ऐन वक्त पर कोई साधन नहीं होने और थाना दूर होने के कारण तात्कालिक तौर थाना में मामले की सुचना प्रेषित नहीं की जा सकी। दूसरे दिन सुबह 11:30 बजे स्थानीय थाना डौंडी पहुँच कर मामले की जानकारी थाना प्रभारी देहारी साहब के समक्ष उपस्थित होकर मामले को उनके संज्ञान में लाया गया। जहाँ….

“मौखिक रिपोर्ट दर्ज करने में आनाकानी और महिला पुलिस की अनुपस्थिति का माज़रा”

पीड़ित पक्ष ने बताया कि स्थानीय थाना में उपस्थित देहारी साहब के द्वारा मौखिक रिपोर्ट दर्ज करने में आनाकानी किए जाने पर लिखित में आवेदन दिया गया तत्पश्चात मामले पर एफआईआर दर्ज किया गया। वहीं पीड़ित पक्ष ने यह बताकर चौंका दिया कि थाना डौंडी में एक भी महिला स्टाफ न होने के कारण उनकी पत्नी को एक पुरुष पुलिसकर्मी के साथ मुलाहिजा के लिए साथ भेजा गया ! जिससे पीड़िता के पति को काफी शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा। आश्चर्य की बात तो यह कि स्वयं थाना प्रभारी देहारी के द्वारा पीड़ित पति-पत्नी को आरोपी राजकुमार कोलियरी से राजीनामा के लिए दबाव बनाया जा रहा था तथा ऐसा न किया जाने पर प्रार्थी के खिलाफ काउंटर रिपोर्ट दर्ज करने की धमकी भी दिए जाने की जानकारी उजागर हुई है।
सुनिए प्रार्थी की कहानी उन्हीं की जुबानी…

थानेदार से ऐसी क्या सांठगांठ हुई कि आरोपी को फरार बताया जा रहा है ?

दिनांक 21/07 को कुछ दैनिक समाचार पत्रों के माध्यम से पीड़ित पक्ष को पता चलता है कि सम्बंधित थाना में प्रार्थी विरुद्ध (आरोपी) रामकुमार कोलियारे के साथ मारपीट से चोट आने का मामला बनाकर भादवि की धारा 294, 506, 323 के तहत मामला पंजीबद्ध किया जा चूका है। वहीं जानकारी मिली है कि आरोपी मुख्य नगर पालिका अधिकारी, रामकुमार कोलियारे जिन पर पुलिस थाना डौंडी लोहारा में अपराध क्रमांक 130/2019, अजमानतीय भादवि की धारा 354, 456 के तहत अपराध पंजीबद्ध है, आज दिनांक तक पुलिस की गिरफ्त से बाहर है और खुलेआम सांड की भांति बेख़ौफ़ विचरण कर रहा है तथा पीड़ित पक्ष के ऊपर दबाव बना रहा है कि वे अपनी शिकायत वापस ले लेवें अन्यथा गंभीर परिणाम भुगतने को तैयार रहें !
उक्ताशय को लेकर पीड़ित प्रार्थी पक्ष के द्वारा पुलिस अधीक्षक, बालोद को भी एक शिकायत पत्र के माध्यम से उनके संज्ञान में लाया जा चूका है साथ ही महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अनिला भेड़िया तक इसकी जानकारी प्रत्यक्ष तौर पर दी जा चुकी है लेकिन, बावजूद इसके आरोपी अधिकारी पर किसी भी प्रकार की कोई कार्रवाई का न होना गहरी सांठगांठ की ओर संकेत करते हैं।  

 

Dinesh Soni

जून 2006 में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा मेरे आवेदन के आधार पर समाचार पत्र "हाइवे क्राइम टाईम" के नाम से साप्ताहिक समाचार पत्र का शीर्षक आबंटित हुआ जिसे कालेज के सहपाठी एवं मुँहबोले छोटे भाई; अधिवक्ता (सह पत्रकार) भरत सोनी के सानिध्य में अपनी कलम में धार लाने की प्रयास में सफलता की ओर प्रयासरत रहा। अनेक कठिनाइयों के दौर से गुजरते हुए; सन 2012 में "राष्ट्रीय पत्रकार मोर्चा" और सन 2015 में "स्व. किशोरी मोहन त्रिपाठी स्मृति (रायगढ़) की ओर से सक्रिय पत्रकारिता के लिए सम्मानित किए जाने के बाद, सन 2016 में "लोक स्वातंत्र्य संगठन (पीयूसीएल) की तरफ से निर्भीक पत्रकारिता के सम्मान से नवाजा जाना मेरे लिए अत्यंत सौभाग्यजनक रहा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button