नई दिल्ली। एक बहुत बड़ी खबर है। पूर्व विदेश मंत्री रहीं सुषमा स्वराज नहीं रही। भाजपा की वरिष्ठ नेत्री व पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का निधन हो गया है। वे काफी समय से अस्वस्थ चल रहे थे। रात करीब 9 बजे उनकी तबियत बिगड़ी, जिसके बाद एम्स में भर्ती कराया गया। इलाज के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया। सुषमा स्वराज की किडनी फेल हो गई थी। डॉक्टरों ने डायलिसिस की थी। बीमारी के चलते ही वे इस बार लोकसभा चुनाव नहीं लड़ी और राजनीतिक से सन्यास ले लिया था। सुषमा स्वराज काफी दिनों से बीमार चल रही थीं। खबर के मुताबिक उन्हें हार्ट अटैक आने के बाद अस्पताल में भर्ती करवाया गया था।
आज शाम उन्हें हार्ट अटैक आया था। एम्स के डॉक्टर हर संभव प्रयास किया, लेकिन बचा नहीं पाए। स्वराज की तबीयत खराब होने की सूचना मिलने पर केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन व नितिन गडकरी पहुंचे हैं।
तमाम बड़े नेता और केंद्रीय मंत्री एम्स पहुंच रहे है। स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन और नितिन गडकरी सहित कई बड़े नेता वहीं मौजूद हैं।
लोकसभा में जम्मू-कश्मीर से धारा 370 खत्म करने को लेकर वोटिंग की जीत के बाद सुषमा स्वराज ने ट्वीट कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई दी थी। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि प्रधान मंत्री जी – आपका हार्दिक अभिनन्दन। मैं अपने जीवन में इस दिन को देखने की प्रतीक्षा कर रही थी। सुषमा स्वराज बीजेपी की दिग्गज नेता कही जाती थी। वाजपेयी शासनकाल में वो सूचना एवम प्रसारण मंत्री थी।

By Dinesh Soni

जून 2006 में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा मेरे आवेदन के आधार पर समाचार पत्र "हाइवे क्राइम टाईम" के नाम से साप्ताहिक समाचार पत्र का शीर्षक आबंटित हुआ जिसे कालेज के सहपाठी एवं मुँहबोले छोटे भाई; अधिवक्ता (सह पत्रकार) भरत सोनी के सानिध्य में अपनी कलम में धार लाने की प्रयास में सफलता की ओर प्रयासरत रहा। अनेक कठिनाइयों के दौर से गुजरते हुए; सन 2012 में "राष्ट्रीय पत्रकार मोर्चा" और सन 2015 में "स्व. किशोरी मोहन त्रिपाठी स्मृति (रायगढ़) की ओर से सक्रिय पत्रकारिता के लिए सम्मानित किए जाने के बाद, सन 2016 में "लोक स्वातंत्र्य संगठन (पीयूसीएल) की तरफ से निर्भीक पत्रकारिता के सम्मान से नवाजा जाना मेरे लिए अत्यंत सौभाग्यजनक रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.