भूपेश सरकार अवैध खनन रोकने रेत नीति बना रही है लेकिन जिला प्रशासन खनिज विभाग व क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों के मिली-भगत से खुटेरी में लगातार चैन माउंटेन से रेत खनन का कार्य किया जा रहा है…बावजूद इसके पूरे मामले पर कलेक्टर व विधायक खामोश…!

क्या हो सकती है इनकी मजबूरी ?

*हेमंत साहू
बालोद। छग प्रदेश सरकार एक और रेत खदानों में अवैध खनन रोकने रेत निति बना रही है तो दूसरी तरफ खुद सरकार के जनप्रतिनिधि व अधिकारियो की मिलीभगत से जिले के गुंडरदेही विकासखंड अंतर्गत ग्राम खुटेरी के रेत खदान में दो-दो चैनमाउंटेन मशीनों के माध्यम से दिन-रात रेत खनन का कार्य धडल्ले से जारी है।
खुटेरी गाँव के तांदुला नदी में पिछले 10 दिनों से प्रशासन व नेताओ के मिलीभगत से इस अवैध खनन के कार्य को अंजाम दिया जा रहा है।
अभी तक खुटेरी मे किसी प्रकार की कार्यवाही नही हुई, ऐसे में ऐसा प्रतीत होता है कि माफिया के साथ जिला प्रशासन व खनिज अधिकारी पूरी तरह मिलजुल काम कर रहे हैं, यह बात समझ से परे है कि आखिर ऐसी भी क्या मज़बूरी है कि जिला प्रसाशन और खनिज अधिकारी किसी भी प्रकार की कार्यवाही नही कर रहे है । किसी प्रकार कि कार्यवाही ना होना जिला प्रशासन और खनिज अधिकारी की मंसूबो की ओर ईशारा करता है।

 

By Dinesh Soni

जून 2006 में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा मेरे आवेदन के आधार पर समाचार पत्र "हाइवे क्राइम टाईम" के नाम से साप्ताहिक समाचार पत्र का शीर्षक आबंटित हुआ जिसे कालेज के सहपाठी एवं मुँहबोले छोटे भाई; अधिवक्ता (सह पत्रकार) भरत सोनी के सानिध्य में अपनी कलम में धार लाने की प्रयास में सफलता की ओर प्रयासरत रहा। अनेक कठिनाइयों के दौर से गुजरते हुए; सन 2012 में "राष्ट्रीय पत्रकार मोर्चा" और सन 2015 में "स्व. किशोरी मोहन त्रिपाठी स्मृति (रायगढ़) की ओर से सक्रिय पत्रकारिता के लिए सम्मानित किए जाने के बाद, सन 2016 में "लोक स्वातंत्र्य संगठन (पीयूसीएल) की तरफ से निर्भीक पत्रकारिता के सम्मान से नवाजा जाना मेरे लिए अत्यंत सौभाग्यजनक रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.