बीजापुर। बस्तर में सुरक्षाबल के जवानों की स्थिति को समझने के लिए इससे बेहतर कोई दूसरा वीडियो मैंने तो आज तक नही देखा। इस वीडियो के दो पहलुओं को समझने से पहले वाकये को समझना होगा।
कोबरा 204 बटालियन के जवानों को गश्त सर्चिंग के दौरान बीजापुर के बासागुड़ा थानाक्षेत्र के बुडगीचेरु के एक घर मे ट्रेक्टर से गिरकर घायल हुआ एक युवक मिला। इलाज़ के लिए इस युवक को अस्पताल पहुंचाना ज़रूरी था। सो जवानों ने चारपाई यानी कि, देशी एम्बुलेंस में नवतप्पा की झुलसती गर्मी में घायल युवक को अपने कंधे पर लादकर पूरे 5 कि. मी. का सफर तय किया। और उसे अस्पताल पहुंचाया। अब घायल की स्थिति सामान्य बनी हुई है।

वीडियो में आप देख रहे होंगे कि, जवान उस घायल युवक को अस्पताल पहुंचाने के लिए एक झोपड़ीनुमा घर से चारपाई निकाल रहे हैं। रोते बिलखते परिजन जवानों को मना कर रहे हैं। एक 6 साल की बच्ची (शायद घायल की बेटी) भी रोते हुए जवानों से अकेले ही लड़ रही है। मतलब साफ है, कि ग्रामीणों को जवानों पर बिल्कुल भी विश्वास नही है। घायल युवक के परिजनों को जवानों की मंशा पर संदेह हो रहा है। परिजनों के मन में जवानों के प्रति खौफ है। जवानों के प्रति अविश्वास है, कि कहीं जवान उस घायल का एनकाउंटर न कर दें या उसे जेल में न ठूंस दें। वहीं दूसरी तरफ जवानों की मंशा बिल्कुल साफ है। जवान अपनी ड्यूटी के अलावा मानवता का धर्म निभाते हुए उस घायल का इलाज करवाना चाहते हैं।
वीडियो को देखने के बाद आसानी से समझा जा सकता है कि माओवादियों ने किस हद तक ग्रामीणों के दिल दिमाग मे जवानों के प्रति ज़हर भर डाला है। यही वजह है कि माओवादियों के आधार इलाके के आदिवासी जवानों को अपना दुश्मन मानते हैं। नक्सलवाद के खात्मे के लिए बेहद ज़रूरी है कि, सरकार और पुलिस पहले ग्रामीणों का विश्वास जीते।
खैर, जब ये घायल युवक स्वस्थ होकर वापस अपने घर लौटेगा तो न केवल घायल युवक के परिजनों का बल्कि पूरे गांव का विश्वास सुरक्षा बल के जवानों पर बढ़ जाएगा।

* साभार : मुकेश चंद्राकर के फेसबुक वॉल से…

By Dinesh Soni

जून 2006 में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा मेरे आवेदन के आधार पर समाचार पत्र "हाइवे क्राइम टाईम" के नाम से साप्ताहिक समाचार पत्र का शीर्षक आबंटित हुआ जिसे कालेज के सहपाठी एवं मुँहबोले छोटे भाई; अधिवक्ता (सह पत्रकार) भरत सोनी के सानिध्य में अपनी कलम में धार लाने की प्रयास में सफलता की ओर प्रयासरत रहा। अनेक कठिनाइयों के दौर से गुजरते हुए; सन 2012 में "राष्ट्रीय पत्रकार मोर्चा" और सन 2015 में "स्व. किशोरी मोहन त्रिपाठी स्मृति (रायगढ़) की ओर से सक्रिय पत्रकारिता के लिए सम्मानित किए जाने के बाद, सन 2016 में "लोक स्वातंत्र्य संगठन (पीयूसीएल) की तरफ से निर्भीक पत्रकारिता के सम्मान से नवाजा जाना मेरे लिए अत्यंत सौभाग्यजनक रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.