बालोद। जिले के ज्यादातर ग्रामीण इलाको में पीडीएस की चांवल को उपभोक्ताओ के द्वारा कोचीयो को बेंचकर लोग पैसा कमा रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट के अनुसार देश के लगभग बीस प्रतिशत लोग भूखे पेट सोने पर मजबूर हैं, इसी को ध्यान रखते हुए सरकार के द्वारा खाद्य सुरक्षा कानून बनाया गया किन्तु बालोद जिला के गुरूर जनपद के परसुली पंचायत के लोग खाद्य सुरक्षा कानून की धज्जिया उड़ाते हुये पीडीएस के तहत मिलने वाले राशन चांवल-गेंहु को धमतरी के बड़े सेठो के 15 रुपये प्रतिकिलो ग्राम के हिसाब से बेचकर मुनाफा कमा रहे हैं।
जिन ग्रामीणो परिवारो की जनसंख्या अधिक है और वे भूमिहीन हैं वे लोग इन्ही कोचीयो से लगभग बीस से पच्चीस रुपया में चांवल खरीद कर अपनी परिवार चलाते हैं।आखिर जिन लोगो को खाद्य सुरझा कानून की जानकारी ही नही या फिर जिन्हे चांवल-गेंहु की जरुरत ही नही इन्हे ये सिर्फ बेचकर अवैध पैसा कमाने की मंशा रखने वाले लोगो को खाद्य सुरक्षा कानून का फायदा देने से किसे लाभ होता है राज्य सरकार वित्तीय घाटा सहकर छत्तीसगढ़ के नागरिक भूखा ना रहे इस मंशा से लगातार पिछले कई सालो से इस योजना को चला रही है लेकिन कई गैर जरुरतमंद लोगो के द्वारा इस तरह के घृणत कार्य को अंजाम देने से सरकार की गरीबो को उबारने की मंशा पर ठेंस पंहुचती है।
ग्राम पंचायत परसुली के सरपंच से लेकर पूरे पंचायत को इस कालाबाजारी के बारे में अच्छे से पता है किन्तु सरपंच महोदय की दयादृष्टी के कारण यह खेल पिछले कई सालो से चल रहा ह वही जिला के खाद्य अधिकारी से हमने मामले की जानकारी देते हुए इसकी शिकायत फोन पर किया तो जिला खाद्य अधिकारी ने बेतुकी पूर्वक जवाब देते हुये कल कार्यालय आकर मामले की जानकारी देने की बात कही अब इसी बात से लोगो को समझना चाहिये की सरकार की नीति गरीबो के लिये है क्योंकि हमारा संविधान कहता है कि इस देश के संसाधनो पर पहला हक गरीबो का है लेकिन बालोद जिला के अधिकारी शायद अपनी चलाना जानते है।
विनोद नेताम
(संवाददाता)

By Dinesh Soni

जून 2006 में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा मेरे आवेदन के आधार पर समाचार पत्र "हाइवे क्राइम टाईम" के नाम से साप्ताहिक समाचार पत्र का शीर्षक आबंटित हुआ जिसे कालेज के सहपाठी एवं मुँहबोले छोटे भाई; अधिवक्ता (सह पत्रकार) भरत सोनी के सानिध्य में अपनी कलम में धार लाने की प्रयास में सफलता की ओर प्रयासरत रहा। अनेक कठिनाइयों के दौर से गुजरते हुए; सन 2012 में "राष्ट्रीय पत्रकार मोर्चा" और सन 2015 में "स्व. किशोरी मोहन त्रिपाठी स्मृति (रायगढ़) की ओर से सक्रिय पत्रकारिता के लिए सम्मानित किए जाने के बाद, सन 2016 में "लोक स्वातंत्र्य संगठन (पीयूसीएल) की तरफ से निर्भीक पत्रकारिता के सम्मान से नवाजा जाना मेरे लिए अत्यंत सौभाग्यजनक रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.