नारको टेस्ट की सीडी आज तक न्यायालय नहीं पहुंची ?

रायपुर। इंदिरा बैंक संघर्ष समिति ने इंदिरा प्रियदर्शिनी महिला नागरिक सहकारी बैंक घोटाले की जांच हेतु मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल से निवेदन कर ज्ञापन सौंपा। श्री बघेल ने आश्वस्त किया कि खातेदारों को न्याय मिलेगा।
इंदिरा बैंक संघर्ष समिति के कन्हैया अग्रवाल, सुरेश जैन, शैलेश श्रीवास्तव, शंकर सोनकर और पुरुषोत्तम शर्मा (पोशी) ने उक्त आशय की जानकारी देते हुए बताया कि इंदिरा बैंक घोटाले को तत्कालीन भाजपा सरकार और सहकारिता के अफसरों ने मिलकर संरक्षण दिया जिसके कारण ना ही घोटालेबाज चिन्हित हुए ना ही किसी घोटालेबाज को सजा मिली। उन्होंने कहा कि बैंक बंद होने की स्थिति में नहीं था परंतु घोटाले से जुड़े आरोपियों को बचाने बैंक को दिवालिया घोषित किया गया जिसके कारण हजारों खातेदारों के समक्ष आर्थिक संकट उत्पन्न हो गया।
समिति ने बैंक घोटाले की नए सिरे से जांच हेतु कमेटी बनाने और बैंक के तत्कालीन मैनेजर उमेश सिन्हा के नार्को टेस्ट की रिपोर्ट न्यायालय में प्रस्तुत करवाने आवश्यक कार्रवाई हेतु निवेदन किया।
वर्ष 2006 में रायपुर के इंदिरा प्रियदर्शनी बैंक में एक नया मोड़ आया। प्रदेश कांग्रेस ने बैंक के तात्कालीन प्रबंधक उमेश सिन्हा के नार्को टेस्ट की एक सीडी जारी किया था। 
 देखिए वीडियो :-

उक्त सीडी में उमेश सिन्हा के मुताबिक किसी मेडम (चेयरमैन, रिता तिवारी) के कहने पर बैंक घोटाले को दबाने के लिए, पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के अलावा बृजमोहन अग्रवाल, अमर अग्रवाल, रामविचार नेताम समेत पूर्व डीजीपी (ओ.पी.राठौर) को करोड़ो ₹ देने की बात बताई।
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल जी ने आश्वस्त किया कि खातेदारों के साथ न्याय होगा।

By Dinesh Soni

जून 2006 में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा मेरे आवेदन के आधार पर समाचार पत्र "हाइवे क्राइम टाईम" के नाम से साप्ताहिक समाचार पत्र का शीर्षक आबंटित हुआ जिसे कालेज के सहपाठी एवं मुँहबोले छोटे भाई; अधिवक्ता (सह पत्रकार) भरत सोनी के सानिध्य में अपनी कलम में धार लाने की प्रयास में सफलता की ओर प्रयासरत रहा। अनेक कठिनाइयों के दौर से गुजरते हुए; सन 2012 में "राष्ट्रीय पत्रकार मोर्चा" और सन 2015 में "स्व. किशोरी मोहन त्रिपाठी स्मृति (रायगढ़) की ओर से सक्रिय पत्रकारिता के लिए सम्मानित किए जाने के बाद, सन 2016 में "लोक स्वातंत्र्य संगठन (पीयूसीएल) की तरफ से निर्भीक पत्रकारिता के सम्मान से नवाजा जाना मेरे लिए अत्यंत सौभाग्यजनक रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.