राशनकार्ड में सिर्फ मुख्यमंत्री और खाद्य मंत्री के फोटो लगवाकर सरकारी राशि का हो रहा दुरुपयोग : नितेश वर्मा।

विनोद नेताम
(संवाददाता)
बालोद। सार्वजनिक वितरण प्रणाली के अंतर्गत नगरपालिका बालोद सीमा क्षेत्र में प्रचलित राशनकार्डों के सत्यापन बाद वितरण आज से शुरू कर दिया गया। नए राशनकार्डो में भारी गड़बड़ी की शिकायत मिल रही है। जिला योजना समिति के सदस्य और पार्षद नितेश वर्मा ने बताया कि, वार्डवार शिविर के माध्यम से किए जा रहे राशनकार्ड वितरण के पड़ताल में देखा गया कि, सत्यापन के बाद हितग्राहियों के आपसी रिश्ते ही बदल गए है। कही पुरुष को महिला बना दिया गया है तो कही मुखिया के अलावा परिवार के अन्य सदस्यों के नाम गायब कर दिए गए है।

प्राथमिकता वाले राशनकार्ड के नवीनीकरण को फोटो की राजनीति का हिस्सा बताते हुए सदस्य और पार्षद नितेश वर्मा ने बताया कि, प्रदेश की कांग्रेस सरकार राशनकार्ड में फोटो की राजनीति कर अपनी छवि चमकाना चाहती है। नए राशनकार्ड में सिर्फ मुख्यमंत्री और खाद्य मंत्री के फोटो लगवाए गए है और कोई परिवर्तन नही है। नवीनीकरण सरकारी राशि का दुरुपयोग है।

नाम आदमी का लिंग में लिखा है महिला
सत्यापन के बाद नए राशनकार्ड का वितरण जैसे ही शुरू हुआ, राशनकार्डधारियों का गुस्सा फूट पड़ा। एक ऐसे ही पुरुष हितग्राही ने बताया कि, राशनकार्ड में उनके नाम के आगे उनका लिंग महिला लिखा गया है। राशनकार्ड की गलती को सुधारने शिविर स्थल पर उन्हें बताया गया कि एक बार फिर आवेदन करना होगा।
राशनकार्ड से परिवार के सदस्यों के नाम गायब !
नए राशनकार्ड मिलने के बाद लोगों को जानकारी हो रही है कि पुराने राशनकार्ड के अनुसार उनके परिवार के अन्य सभी सदस्यों के नाम नए राशनकार्ड में दर्ज नही है। उनके सदस्यों के नाम विलोपित कर दिए गए है। ऐसे में उनके परिवार को एक सदस्य के आधार पर मात्र 10 किलो राशन ही मिलेगा।
मुख्यमंत्री और खाद्य मंत्री की फोटो लगा ली, मुखिया की छोड़ गए !
राशनकार्ड में सरकार को केवल मुख्यमंत्री और खाद्य मंत्री की फोटो लगानी थी इसीलिए नवीनीकरण की प्रक्रिया की गई। नए राशनकार्ड के जरिये निकाय चुनाव जीतने की मंशा रखने वाली प्रदेश की कांग्रेस सरकार मुख्यमंत्री और खाद्य मंत्री की फोटो तो छपवा ली पर हितग्राहियों की फोटो लगाने में कोई दिलचस्पी नही दिखाई।
फोटो सत्यापन के बगैर दिया गया राशनकार्ड
नए राशनकार्ड वितरण शिविर में नगरपालिका के कर्मचारी बगैर मुखिया के फोटो वाले राशनकार्ड लेकर पहुंचे। हितग्राही आते रहे और कर्मचारी उन्हें उल्टे पैर फोटो के लिए वापस लौटाते रहे। फोटो लाने पर उन्हें शिविर स्थल पर ही लाए हुए फोटो को चिपकाकर राशनकार्ड का वितरण किया गया।
हितग्राही के लाए फोटो को चिपकाकर फोटो सत्यापित करने वाली नगरपालिका की सील के बगैर नया राशनकार्ड का वितरण किया गया है। हितग्राहियों को नगरपालिका कार्यालय आकर सील लगवाने कहा गया है।

About Post Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *