कई मुद्दों को लेकर इस्तीफे की मांग, भाजपा पार्षद बैठे धरना में…

बीजेपी पार्षदो, नेताओं और कार्यकर्ताओं द्वारा पालिका प्रांगण में धरने पर बैठ की जमकर नारेबाजी।

*हेमंत साहू

बालोद। मंगलवार को नगरपालिका बालोद के प्रांगन में भाजपा के पार्षदों एवं भाजपा नेताओं के द्वारा कांग्रेस समर्थित नपाध्यक्ष एवं कांग्रेसी पार्षदों से इस्तीफे को मांग को लेकर पालिका प्रांगन में ही धरने पर बैठ गए और इस्तीफे को लेकर जमकर नारेबाजी भी की और कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौपा ।
नगरपालिका परिषद की सामान्य सभा की बैठक में नगर पालिका अध्यक्ष विकास चोपड़ा द्वारा नियत समय में जल आवर्धन योजना लागू न होने की स्थिति में कांग्रेसी पार्षदों के साथ सामूहिक त्याग पत्र देने की सार्वजनिक घोषणा की थी और वर्तमान समय तक जल आवर्धन योजना का लाभ नगरवासियों को नही मिल पाया हैं ।
जिसके विरोध में नगरपालिका बालोद में भाजपा पार्षद नितेश वर्मा, मोहन कलिहारी, रमेश मालेकर, विमल साहू श्रवण श्रीवास्तव सहित भाजयुमो जिलाध्यक्ष अमित चोपड़ा, कमलेश सोनी, नरेन्द्र देश्लाहरे, प्रदीप कौशरिया, दीपक देवांगन एवं दर्जनों बीजेपी के कार्यकर्ताओं द्वारा पालिका के प्रांगन में इस्तीफे की मांग को लेकर धरने में बैठ जमकर नारेबाजी की तथा सीएम भूपेश बघेल एवं नपाध्यक्ष विकास चोपड़ा मुर्दाबाद के नारे भी लगाए ।

नपाध्यक्ष विकास चोपड़ा ने 6 माह के भीतर कार्य पूरा नही होने पर कही थी सामूहिक इस्तीफे देंगे।

गौरतलब हो की 23 फरवरी 2019 को नगरपालिका परिषद की सामान्य सभा की बैठक नगर के संजारी क्लब में आहूत की गई थी, उक्त बैठक में शहर में लगातार गन्दा और अपर्याप्त पेयजल आपूर्ति किए जाने के समबन्ध में आम जनता के सवालों का सार्वजनिक जवाब देते हुए नपाध्यक्ष विकास चोपड़ा ने अपनी पूर्व में की गई घोषणा को दोहराते हुए कहा था की राज्य में कांग्रेस सरकार गठन के बाद नगरवासियों की 6 माह में साफ़ पानी नही मिला तो मेरे साथ 10 कांग्रेसी पार्षद सामूहिक रूप से इस्तीफा दे देंगे ।
श्री विकास चोपड़ा ने यह भी कहा था की हम अपने वायदे पर कायम रहेंगे और सरकार गठन की 6 माह की अवधि याने की 17 जून तक जल आवर्धन योजना शहर में शुरू नही हुई तो मेरे सहित सारे कांग्रेसी पार्षद सामूहिक इस्तीफा देंगे, नपाध्यक्ष विकास चोपड़ा द्वारा सार्वजनिक तौर कही गई इस्तीफे की बात पर भाजपा पार्षदों, नेताओ और कार्यकर्ताओं ने इस्तीफे की मांग को लेकर मंगलवार को पालिका प्रांगन में धरने पर बैठ जमकर नारेबाजी की।

By Dinesh Soni

जून 2006 में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा मेरे आवेदन के आधार पर समाचार पत्र "हाइवे क्राइम टाईम" के नाम से साप्ताहिक समाचार पत्र का शीर्षक आबंटित हुआ जिसे कालेज के सहपाठी एवं मुँहबोले छोटे भाई; अधिवक्ता (सह पत्रकार) भरत सोनी के सानिध्य में अपनी कलम में धार लाने की प्रयास में सफलता की ओर प्रयासरत रहा। अनेक कठिनाइयों के दौर से गुजरते हुए; सन 2012 में "राष्ट्रीय पत्रकार मोर्चा" और सन 2015 में "स्व. किशोरी मोहन त्रिपाठी स्मृति (रायगढ़) की ओर से सक्रिय पत्रकारिता के लिए सम्मानित किए जाने के बाद, सन 2016 में "लोक स्वातंत्र्य संगठन (पीयूसीएल) की तरफ से निर्भीक पत्रकारिता के सम्मान से नवाजा जाना मेरे लिए अत्यंत सौभाग्यजनक रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.