ChhattisgarhConcern

फ्री होल्ड घोटाला का सरताज विवेक ढांड ! Part – 1

रायपुर hct : आम जनता को जहाँ आवास के लिए जमीन नहीं मिल पाती, लाखों लोग किराए के मकान में अपना सारा जीवन गुजार देते हैं। वहीं भू - माफिया रसूखदारों के लिए शासकीय भूमि वरदान साबित हो रही है। राजधानी के हृदय स्थल सिविल लाइन में 150300 वर्गफीट भूमि पर कब्जा, वह भी नजूल पर, भूमि हकदार साधारण व्यक्ति तो हो नहीं सकता। आप है, छत्तीसगढ़ के जाने - माने आईएएस अधिकारी व शासन के कृपापात्रों में से एक जो सेवानिवृत्ति के पश्चात भी शासकीय निकाय "रियल एस्टेट नियामक प्राधिकरण" (RERA) के महत्वपूर्ण पद पर शोभायमान हैं। रेरा अध्यक्ष, वैसे भी कोई छोटा पद नहीं है जिसके सामने छत्तीसगढ़ के बड़े से बड़े भू–माफिया, बिल्डर्स नतमस्तक हैं। हो भी क्यों ना ? जाने कब किस प्लाटिंग पर किसी बड़े मल्टीकाम्लेक्स पर या बड़ी - बड़ी बन रही आवासीय या व्यावसायिक निर्माण स्थलों पर शनि की दृष्टि हो जाये और व्यवसाय ऐसे थम जाए मानों सृष

Read More
ChhattisgarhConcern

देख रहा है ना बिनोद, सब कुछ साफ़ है फिर भी जांच-जांच का खेल कर लीपा -पोती की तैयारी है।

122 कट्टा पुराना धान खपाने और उपार्जन केंद्र के 731 कट्टा धान के अवैध भंडारण का मामला। गरियाबंद hct। खरीफ वर्ष 2021 माह दिसंबर के अंतिम सप्ताह में जिले के धान उपार्जन केंद्र बिन्द्रानवागढ़ खम्हारीपारा में 122 कट्टा पुराना धान खपाने का मामला सामने आया था।मौके पर पहुंची जांच टीम को उपार्जन केंद्र के आस पास के घरों में 731कट्टा पुराना धान भी मिला था, बताया गया कि ये धान इसी उपार्जन केंद्र का था, इसकी बोरियों पर इसी उपार्जन केंद्र का स्टेनशील लगा था। ग्रामीणों के अनुसार आदिम जाति सेवा सहकारी समिति मर्यादित धवलपुर पंजीयन क्रमांक 1660 के सेल्समेन चुन्नूराम यादव द्वारा इस उपार्जन केंद्र में पिछले सीजन खरीदी प्रभारी रहने के दौरान सुखत शार्टेज के नाम खेला करते हुये 731 कट्टा से अधिक धान उपार्जन केंद्र के आस -पास के घरों में रखवा दिया गया था। 27 दिसम्बर 2021 को चुन्नूलाल द्वारा 122 कट्टा धान इसी ...

Read More
Concern

डाक घर बचत योजना में जमा पूंजी को पोस्ट मास्टर ने किया गबन !

जेब पर डाका पड़ने की घटनाएं आये दिन देखने या सुनने को मिलता है, लेकिन पोस्ट आफिस में लोगों के द्वारा जमा की गई जमा-पूंजी पर डाका यह बात लोगों के लिए अटपटा लग सकता है। लोग बड़े विश्वास के साथ मेहनत और पसीने से कमाई हुई पैसों को बैंक या पोस्ट आफिस में जमा करते हैं, लेकिन लोगों के द्वारा जमा पूंजी को बैंक प्रबंधन या पोस्ट आफिस वाले लोग चूना लगाकर हजम कर जाए, तब इन संस्थानों में अपनी मेहनत और पसीने से कमाई हुई एक-एक रूपए को जमा करने वाले लोगों के मन को कितना ठेंस पहुंचता होगा यह समझना आसान है। बहरहाल राज्य में लोगों की मेहनत और पसीने की कमाई को लेकर रफ्फूचक्कर होने की घटना यह पहली बार नहीं हुआ है इससे पहले चिटफंड कंपनियों ने प्रदेश में लूट की जबदस्त अभियान चलाया जिसके चलते छत्तीसगढ़ राज्य के लाखो लोगो की मेहनत से कमाई हुई करोड़ों रुपए डूब गया था हालांकि कांग्रेस पार्टी की सरकार बनने के बाद चिट

Read More
ChhattisgarhConcern

अगर देश में नोटबंदी और देशबंदी हो सकती है तो नशाबंदी क्यों नहीं? – मिशन स्वराज मंच।

अगर तानाशाही इच्छाशक्ति से भी भारत व्यसन मुक्त बने तो कोई गुरेज नहीं !  मिशन स्वराज के मंच पर आज शनिवार १९ सितंबर २०२० को दोपहर २ बजे आयोजित चर्चा का विषय था 'महात्मा गाँधी का व्यसन मुक्त भारत का सपना' जिसमें देश के विभिन्न राज्यों से विभिन्न क्षेत्रों के नामी-गिरामी वक्ताओं ने शिरकत की। मिशन स्वराज के संस्थापक और समाजसेवी प्रकाशपुंज पांडेय ने इस संदर्भ में मीडिया को अवगत कराया कि आज की इस चर्चा में कई नामचीन हस्तियों ने अपने अपने विचार व्यक्त किए जिसमें दिल्ली से देश के चिरपरिचित वरिष्ठ पत्रकार, मीडिया सरकार / द वेब रेडियो के सीईओ और lauk.in के फाउंडर अनुरंजन झा, लखनऊ (उत्तर प्रदेश) से अखिल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता सुरेंद्र राजपूत, यवतमाल (महाराष्ट्र) से जांबुवंत राव धोटे की सुपुत्री और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के महिला विभाग की यवतमाल जिले की अध्यक्षा, अधिवक्त

Read More
ChhattisgarhConcern

जशपुर की मनोरमा मिश्रा ने किया नेत्रदान, जीवित रहते फार्म भर जताई थी अंतिम इच्छा, बच्चों ने की पूरी आखरी ख्वाइश।

जशपुर (hct)। जशपुर जिला मुख्यालय में एक बार फिर समाज के प्रति समर्पित वृद्ध महिला के मृत्यु उपरांत नेत्रदान किया गया। यह जशपुर जिले में दूसरा अवसर है जहां सबसे बड़े पुण्य का कार्य संपन्न हुआ। दिवंगत महिला मनोरमा मिश्रा 87 वर्ष की थी और जीवित रहते उनकी आखरी इच्छा थी कि उनके नेत्र का लाभ किसी जरूरतमंद को मिले। परिजनों की भी प्रबल इच्छा थी की मनोरमा मिश्रा की इच्छा वे पूरा करें और नेत्रदान की प्रक्रिया की जाए। जानकारी के मुताबिक नगर के विवेकानंद कॉलोनी में रहने वाली मनोरमा मिश्रा कुछ दिनों से अस्वस्थ थीं और उनकी अंतिम इच्छा थी के वे नेत्रदान करें। उनके परिवार के कुछ सदस्य स्वास्थ्य क्षेत्र में भी सेवा दे रहे हैं और सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में विशिष्ट पहचान है।मनोरमा मिश्रा अपने पीछे बेटे, बहु, नाती, पोते रवि मिश्रा, शिव प्रकाश, ग्रिरेंद्र मिश्रा, शशिभूषण मिश्रा, सविता मिश्रा, सुशिला ...

Read More
ConcernNational

गर्व से कहो हम हिन्दू “ठेकेदार” हैं।

वाह रे समाज और हिन्दू ! यह कहानी नहीं है। यह दृश्य है उड़ीसा के नवरंगपुर जिले की है। नुआखाई पांडे को पति ने त्याग दिया। अबला आकर अपने दोनों भाई के साथ रहने लगी। तबियत खराब हुई और त्यक्ता (नुआखाई पांडे) की मौत हो गयी। समाज के लोगों ने पांडे परिवार के साथ संबंध में अनबन होने का हवाला देकर शव को कंधा तक नहीं दिया। बेबस और समाज से त्यक्त उस मृत महिला को मृत समाज से त्यक्त पांडे भाइयों (टेकराम और पुरुषोत्तम) ने साइकिल के पीछे वाला स्टैंड पर ले जाकर (क्योंकि चार कंधा की जरूरत थी और हो रहा था सिर्फ दो कंधा, सो एक निर्जीव साइकिल को कंधा बनाया गया शव का दाह संस्कार किया। अद्भुत प्रसंग है ये। एक भाई साइकिल चला रहा है और एक भाई पीछे से अपनी बहन जो पति और मृत समाज से त्यक्त है, उसे पकड़े हुए है। यह बोझ ले जा रहे हैं, सिर्फ शव का नहीं, अपितु समाज का। इस समाज को तुरंत जलाने की जरूरत है। क्योंकि शव क

Read More
Concern

* मेरे शहर में *

जीवन चलता रहता है मेरे शहर में, ना कुछ रुकता, ना अटकता है मेरे शहर में । मेरे शहर में ... चंद नेता, कुछ पत्रकार कोई नौकरीपेशा, कोई बिना सरोकार जिंदा रहता है मेरे शहर में । मेरे शहर में ... समाज सेवक, कुछ व्यापारी, धोखा धूर्त्तता मक्कारी, कोई नौटंकी दिखाता है मेरे शहर में। मेरे शहर में .... ईद और दिवाली, जलसे, जुलूस, कव्वाली, रावण भी मरता है मेरे शहर में। मेरे शहर में ... आरती, अजान, कीर्तन, सबद, कथा और भजन, कबीर कहाँ रहता है मेरे शहर में। जीवन चलता रहता है ... मेरे शहर में... पुलिस, चोर और अधिकारी, राजा, मंत्री, कुछ दरबारी कुछ ना कुछ घटता रहता है मेरे शहर में। ना कुछ रुकता, ना अटकता है ..

Read More
ChhattisgarhConcern

चली आना …; चली आना तू पान की दुकान पे

रायगढ़। *स्थानीय रामबाग के समीप कल एक पान की दुकान देखा जिसे देखकर बहुत खुशी का एहसास हुआ स्वतः ही मेरे मुंह से "वाह" निकल गया। एक छोटा हाथीऑटो में सड़क किनारे पान की दुकान देखना एक बढ़िया एहसास रहा। सुबेरे से रात तक इस छोटे हाथी में दुकानदारी करने वाले भाई साहब से जब मैंने पूछा की :- भैया ये आइडिया कैसे आया ? तो उन्होंने कहा की :- "भैया ठेला लगाऊंगा तो 30 से 35 हजार लगेंगे, जगह खुद का न होने के कारण बेजाकब्जा की बात उठती है, बरसात के कारण ठेला को नुकसान भी होता है और कभी कब्जा हटाने का अभियान शहर में होता है तो सड़क किनारे गरीबों के ठेलों को ही प्रशासन सबसे पहले टारगेट करता है, ठेला कब्जा किया जाता है या तो ठेला पलटा भी दिया जाता है ये देखकर बड़ा दुख होता है। जिस पैसे से मैं ठेला बनाऊंगा उसी पैसे से डाउन पेमेंट करके छोटा हाथी ले लिया इसका फायदा मुझे मिल रहा है। इस दुकान को त्यौहार, शादी-ब्याह

Read More
ChhattisgarhConcern

इसका मतलब हम क्या समझे सर जी, क्या हम दिव्यांग लोगों की कोई इज्जत नहीं है ?

बस परिचालकों ने फिर किया दिव्यांग यात्री से दुर्व्यवहार पूर्व में एक बार की गई है कार्रवाई" गरियाबंद (hct)। दिव्यांग कोमल वर्मा से बस परिचालकों ने एक बार फिर दुर्व्यवहार करना शुरू कर दिया है इससे पहले भी मार्च माह में बस चालक परिचालक कोमल वर्मा से लगातार दुर्व्यवहार कर रहे थे, जिसकी लिखित शिकायत किये जाने पर जिला परिवहन अधिकारी द्वारा चालानी कार्यवाही की गई थी, साथ ही समस्त बस संचालको को हिदायत दी गई थी कि भविष्य में इस प्रकार की शिकायत प्राप्त होने पर परमिट निलंबन / निरस्तीकरण की कार्यवाही की जा सकेगी। कोमल वर्मा दिव्यांग है और जिला मुख्यालय के एक कार्यालय में दैनिक वेतन भोगी है, प्रतिदिन उन्हें अपने गृह ग्राम से से गरियाबंद आना पड़ता है। जिला परिवहन कार्यालय द्वारा उन्हें फ्री यात्री पास जारी किया गया है। बुधवार को कोमल वर्मा ने फिर से बस परिचालकों द्वारा दुर्व्यवहार किये जाने की शिक

Read More
ChhattisgarhConcern

बिजली समस्या : माकपा ने जीती लड़ाई, बिल वसूली व लाइन कटौती पर लगी रोक।

कोरबा। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के नेतृत्व में बांकी मोंगरा क्षेत्र के ग्रामीणों की भूख हड़ताल का पहले ही दिन समापन हो गया। बिजली विभाग के अधिकारियों के साथ हुई चर्चा के बाद विभाग ने इस क्षेत्र के उपभोक्ताओं से की जा रही बिल वसूली और बिल न पटाने पर की जा रही लाइन कटौती पर रोक लगाने की घोषणा की तथा लिखित आश्वासन दिया कि क्षेत्र में बिजली समस्याओं के निराकरण के लिए गांव-गांव में कैम्प लगाए जाएंगे। अधिकारियों ने अनशनरत माकपा कार्यकर्ताओं को जूस पिलाकर उनकी भूख हड़ताल खत्म की। आज पूर्व घोषणा के अनुसार माकपा के बैनर तले बड़ी संख्या में ग्रामीणों ने कोरबा स्थित बिजली विभाग के मुख्य कार्यालय पर क्रमिक भूख हड़ताल और धरना शुरू कर दिया। माकपा जिला सचिव प्रशांत झा, दिलहरण बिंझवार, जवाहर सिंह कंवर और शिवरतन सिंह कंवर भूख हड़ताल करने वाले पहले दिन के सत्याग्रही बने। माकपा राज्य सचिव संजय पराते भी इस आ

Read More