*कुणाल राठी

रायपुर। कोरोना वायरस दुनियाभर के लिए गंभीर समस्या बनी हुई है। जिसके चलते 21 दिनों का बंद किया गया है। जिसके बाद उपजी समस्याओं को देखते हुए प्रदेश में अलग-अलग समाज सेवी संस्थाओं द्वारा जरुरतमंदों की जरूरत की सामग्री व राशन वितरण का कार्य किया जा रहा है। इसी कड़ी में पिछले 10 दिनों से आशाएं संस्था द्वारा उरला-सिलतरा इंडस्ट्रियल एरिया में लगातार भोजन व खाद्य सामग्री का वितरण किया जा रहा है। जिसका जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन द्वारा खूब सराहना की गई है।

आपको बता दें कि कोरोना महामारी एवं लॉकडाउन के दौरान आशाएं समाजसेवी संस्था द्वारा जरूरतमंद लोगों को भोजन व राशन सामग्री उपलब्ध कराई जा रही है। अब तक संस्था द्वारा 5500 लोगों को राशन वितरण किया जा चुका है।

इस दौरान आशाएं समाजसेवी संस्था के अध्यक्ष यश टुटेजा, उमेर ढेबर, तरण जीत होरा, सौरभ अग्रवाल, कारण राजपाल, परवेश फारूकी, मिंटू, एडवोकेट पीयूष भाटिया, सौरभ जैन सहित कई सदस्य उपस्थित रहे। संस्था के सदस्यों द्वारा स्वयं के व्यय पर प्रतिदिन 500 से 600 जरूरतमंद लोगों को भोजन व राशन उपलब्ध कराया जा रहा है।

साथ ही लोगों को मास्क, सेनेटाईजर, कपड़े, साबुन एवं जरूरतमंदों के हिसाब से अन्य वस्तुएं भी उपलब्ध कराए जा रहें हैं। आपको बता दें कि संस्था द्वारा खाना व राशन वितरण का कार्य पिछले 29 मार्च से निर्विघ्न रूप से किया जा रहा है। दस दिनों में कुल 5450 पैकेट भोजन एवं जरूरतमंद 400 परिवार को 15 दिनों की राशन सामाग्रियों का वितरण किया गया है। संस्था द्वारा किये जा रहे इस कार्य का जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन द्वारा खूब सराहना की जा रही है। समाजसेवी संस्था आशाएं की टीम में लगभग 150-200 युवा सदस्य पूरी तत्परता के साथ कार्य में लगे हुए हैं।

https://chat.whatsapp.com/LG7AnYeyxJnCNvRAdKB1bH

By Dinesh Soni

जून 2006 में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा मेरे आवेदन के आधार पर समाचार पत्र "हाइवे क्राइम टाईम" के नाम से साप्ताहिक समाचार पत्र का शीर्षक आबंटित हुआ जिसे कालेज के सहपाठी एवं मुँहबोले छोटे भाई; अधिवक्ता (सह पत्रकार) भरत सोनी के सानिध्य में अपनी कलम में धार लाने की प्रयास में सफलता की ओर प्रयासरत रहा। अनेक कठिनाइयों के दौर से गुजरते हुए; सन 2012 में "राष्ट्रीय पत्रकार मोर्चा" और सन 2015 में "स्व. किशोरी मोहन त्रिपाठी स्मृति (रायगढ़) की ओर से सक्रिय पत्रकारिता के लिए सम्मानित किए जाने के बाद, सन 2016 में "लोक स्वातंत्र्य संगठन (पीयूसीएल) की तरफ से निर्भीक पत्रकारिता के सम्मान से नवाजा जाना मेरे लिए अत्यंत सौभाग्यजनक रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.