विनोद नेताम
(संवाददाता)
बालोद। मानवता को शर्मसार करने वाली हृदय विदारक घटना के बाद “हाइवे क्राइम टाईम” ने समाचार प्रचारित किया था जिससे बौखलाकर सियनमरा के सरपंच महोदय के सब्र का बांध टूट गया और फोन लगाकर हमारे प्रतिनिधि को ब्लेकमेल करने की नाकाम कोशिश में यह कहने लगा कि समाचार लगाने के पहले मुझसे बात कर लेना था, जिस तरह से दीगर मीडियाकर्मियों के द्वारा मैडम से बदनामी का भय दिखाकर मांगे रखी गई जिसे संभवतः कुछ ग्रामीणों के द्वारा उनकी मांगें पूरी की गई है उसी तरह आपकी इच्छा का भी ख्याल रखा जाता। आपको इस तरह से समाचार नहीं प्रचारित किया जाना था। *अब मैं भी देखता हूँ कि पंचायत के बैगर इजाजत कौन अधिकारी कैसे कारवाही करता है। खबर को चलाना नही था आकर मुलाकात कर लेते, इसके पहले भी इस तरह के मामले मैडम के द्वारा तीन से चार बार और भी हमारे संज्ञान में आ चूका है, तब पंचायत ने मैडम और ग्रामीणो के बीच आपसी राजीनामा/समझौता करवा कर मामले को दबा दिया गया था। सियनमरा सरपंच, अनिरूध्द ठाकुर की इतनी ओछी मानसिकता ने समूचे ग्राम को शर्मसार कर दिया है।
अनिरूध्द ठाकुर सरपंच सियनमरा के आरोप और हमारी सत्यता को परखने हम भी सियनमरा पंचायत प्रांगण में पहुंचे हमे देख कर सरपंच महोदय भौचका रह गए। आरोप की सत्यता के बारे मे गांव के लोगो के समक्ष ही पुछा किसी ने हमे पैसा दिया क्या ? सभी ने कहा सर जी आप तो आये ही नही थे। सरपंच भी कहने लगा कि आप यहाँ आये ही नही थे सर, मुझसे कहने में भूल हुई। लेकिन महिला शिक्षक के समर्थन के लिए आप स्वंय कैसे बोल सकते हो ? ये सवाल सुनते ही सरपंच महोदय रफूचक्कर हो गये।
बालोद जिलान्तर्गत गुंडरदेही विकासखंड क्षेत्र के सियनमरा ग्राम पंचायत स्थित शासकीय प्राथमिक शाला में पदस्थ महिला शिक्षिका रेनु जांगड़े ने जिस शिक्षा के मंदिर को मसाज पालर्र में तब्दील करने पर उतारू है, उसके पक्षधर ग्राम के मुखिया के मुख से ऐसी वाणी का मुखर होना और उसके द्वारा कारित कृत्य को नजरअंदाज करना किसी आश्चर्य से कम नहीं। सरपंच और शिक्षिका की सांठगांठ से न सिर्फ सियनमरा के लोग बल्कि पूरी मानवता और शिक्षा जगत शर्मींदा हुआ है। इसकी शिकायत गुंडरदेही विकासखंड शिक्षा अधिकारी से की गई है। जानकारी मिली है कि समाचार लगने के बाद शिक्षा विभाग के आला अधिकारी जांच में पहुंचकर ग्रामीणो और विद्यालय के बच्चो का बयान दर्ज की है।
“मामले पर मैने अधिकारीयो से चांज कर दोषियो के ऊपर कारवाही करने बात कह दिया हुं साथ ही ऐसी अमानवीय घटना में सहयोग करने वाले लोगो के ऊपर भी शक्ती की जायेगी।”
कुंवर सिंह निषाद,
विधायक, गुंडरदेही विधानसभा।
“गुरू और शिष्य के अटुट बंधन को बदनाम करती है ऐसी घटना सरपंच महोदय के कथन निंदनीय है। जाँच कर कार्रवाई होनी चाहिए।”
लेखराम साहू
अध्यक्ष : भाजपा, बालोद

*सरपंच और प्रतिनिधि से हुई बातचीत का सार, @सर्वाधिकार सुरक्षित।

By Dinesh Soni

जून 2006 में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा मेरे आवेदन के आधार पर समाचार पत्र "हाइवे क्राइम टाईम" के नाम से साप्ताहिक समाचार पत्र का शीर्षक आबंटित हुआ जिसे कालेज के सहपाठी एवं मुँहबोले छोटे भाई; अधिवक्ता (सह पत्रकार) भरत सोनी के सानिध्य में अपनी कलम में धार लाने की प्रयास में सफलता की ओर प्रयासरत रहा। अनेक कठिनाइयों के दौर से गुजरते हुए; सन 2012 में "राष्ट्रीय पत्रकार मोर्चा" और सन 2015 में "स्व. किशोरी मोहन त्रिपाठी स्मृति (रायगढ़) की ओर से सक्रिय पत्रकारिता के लिए सम्मानित किए जाने के बाद, सन 2016 में "लोक स्वातंत्र्य संगठन (पीयूसीएल) की तरफ से निर्भीक पत्रकारिता के सम्मान से नवाजा जाना मेरे लिए अत्यंत सौभाग्यजनक रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.