Uncategorized

“ठाढ़े रहियो ओ बांके यार” की धुन पर, थिरक रहा माइनिंग विभाग

धनलक्ष्मी मर्चेंडाइज प्रा० लि० की टीपी (ट्रांजिट पास) से हो रही निर्बाध रेत परिवहन !

*दीपक शर्मा।

मानपुर/उमरिया : शहडोल संभाग की जीवन रेखा कहलाने वाली सोन नदी के अमिलिया घाट से महाकाल मिनरल्स नदी की धार पर पोकलेन मशीनों के माध्यम से अवैध रूप से रेत का ताबड़तोड़ उत्खनन कर रहा है बता दें कि अमिलिया घाट की खदान जो की उमरिया जिले अंतर्गत आती है जिसका ठेका महाकाल मिनिरल्स प्राइवेट लिमिटेड के नाम से है जिसके द्वारा बाकायदा बीच नदी की धार पर मशीनों के माध्यम से रैम्प बनाकर दिन भर में सैकड़ो हाईवा के माध्यम से अवैध रूप से रेत का उत्खनन कर जिले और प्रदेश से बाहर, ताबड़तोड़ सप्लाई किया जा रहा है।

नियमों को धत्ता बताकर किया जा रहा बेतहाशा उत्खनन

एनजीटी के कायदों के अनुसार नदी के घाट पर 3 फीट से ज्यादा उत्खनन न करने के निर्देश हैं लेकिन जिले के खनिज विभाग की सरपरस्ती पर एनजीटी के कायदे और सिया के प्रावधानों की खुलेआम धज्जियां उड़ाई जाकर 10 से 15 फीट तक की गहराई से रेत का उत्खनन किया जा रहा है। स्थानीय ग्रामीणों की माने तो इन रेत माफिया द्वारा अपनी सहूलियत के लिए नदी की धार को ही मोड़ दिया गया है जिससे ग्रामीण पशुपालकों को अपने मवेशियों को तथा निस्तार हेतु पानी लेने के लिए कई किलोमीटर का सफर तय करना पड़ता है।

महाकाल मिनरल्स के रेत माफियाओं के द्वारा सोन नदी के अमिलिया घाट पर बड़ी-बड़ी मशीनों के माध्यम से ताबड़तोड़ रेत का उत्खनन करने के बाद बड़े-बड़े गोप तैयार कर छोड़ दिए गए हैं जो कि निश्चित रूप से किसी बड़ी अनहोनी को निमंत्रण हैं संभवतः इस गोप में बेजुबान पशुओं समेत भोले भाले ग्रामीणों की समाधि भी बन सकती है।

देखिए वीडियो : 

कहीं की ईंट कहीं का रोड़ा फरहत ने अपना जहां जोड़ा !

बता दें की बरौदा स्थित उक्त स्टॉक जिला कटनी से टीपी काटकर रेत का अवैध रूप से परिवहन किया जा रहा है जिसका ओनर धनलक्ष्मी मर्चेंडाइज प्राइवेट लिमिटेड-समर सिंह तोमर है। इतना ही नहीं सोन नदी की इस सफेद रेत के काले‌ कारोबार में संलिप्त महाकाल मिनरल्स के गुर्गों के द्वारा रेत के इस कारोबार में संलिप्त वाहन क्रमांक एमपी 54 जेडए 6129 जिसका टीपी क्रमांक-6087889361 है‌ को अमिलिया खदान से रेत लोड करते हुए पाया गया, जबकि उक्त टीपी कटनी जिले की बरौंदा खदान धनलक्ष्मी मर्चेंडाइज प्राइवेट लिमिटेड समर सिंह तोमर के नाम से है जिनके द्वारा गत वर्ष कटनी जिले में रेत का कारोबार किया जा रहा था।

“ठाढ़े रहियो ओ बांके यार” की धुन पर, थिरक रहा माइनिंग विभाग !

यही नहीं कटनी जिले के ढीमरखेड़ा तहसील स्थित ग्राम बरौंदा से गाड़ी की गाड़ी की लोडिंग भी टीपी में भी शो कर रही है जबकि मौके से उक्त वाहन को उमरिया जिले के सोन नदी घाट अमिलिया से लोड करते हुए पाया गया। ऐसा नहीं की सफेद रेत के इस काले कारोबार की जानकारी जिले के खनिज अमले को नहीं लेकिन जिले के खनिज विभाग की मोहतरमा फरहत जहां; जो की उमरिया खनिज विभाग की कुर्सी पर अंगद की तरह पांव जमा कर बैठी हैं उनके संरक्षण में ही यह सारा खेल चल रहा है। तभी तो महाकाल मिनरल्स के कोठे (बंगला) में माइनिंग विभाग के जिम्मेदार ने अपने पैरों में घुंघरू बांधकर “ठाढ़े रहियो ओ बांके यार” की धुन पर, थिरकने को मजबूर है।

उम्मीद किया जा सकता है कि जिले के संवेदनशील कलेक्टर महोदय मामले में संज्ञान लेकर कर खनिज विभाग की शह में चल रहे रेत के इस काले कारोबार पर अंकुश लगाए।

https://chat.whatsapp.com/F36NsaWtg7WC6t0TjEZlZD

Dinesh Soni

जून 2006 में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा मेरे आवेदन के आधार पर समाचार पत्र "हाइवे क्राइम टाईम" के नाम से साप्ताहिक समाचार पत्र का शीर्षक आबंटित हुआ जिसे कालेज के सहपाठी एवं मुँहबोले छोटे भाई; अधिवक्ता (सह पत्रकार) भरत सोनी के सानिध्य में अपनी कलम में धार लाने की प्रयास में सफलता की ओर प्रयासरत रहा। अनेक कठिनाइयों के दौर से गुजरते हुए; सन 2012 में "राष्ट्रीय पत्रकार मोर्चा" और सन 2015 में "स्व. किशोरी मोहन त्रिपाठी स्मृति (रायगढ़) की ओर से सक्रिय पत्रकारिता के लिए सम्मानित किए जाने के बाद, सन 2016 में "लोक स्वातंत्र्य संगठन (पीयूसीएल) की तरफ से निर्भीक पत्रकारिता के सम्मान से नवाजा जाना मेरे लिए अत्यंत सौभाग्यजनक रहा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button