छत्तीसगढ़ में जो हो रहा है उसका कारण भाजपा नहीं भूपेश बघेल के कारनामें हैं।

कांग्रेस ने छत्तीसगढ़ को लूटा है, जनता उन्हें माफ नहीं करेगी।

गरीबों का पैसा लूटकर कांग्रेस ने सोनिया गांधी के दरबार में चढ़ाया है

राष्ट्रीय अधिवेशन में आने वाले कांग्रेस नेता बताए छत्तीसगढ़ में हुई लूट का कितना हिस्सा किस-किस को मिला ?

रायपुर hct : भाजपा कार्यालय एकात्म परिसर में पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अरुण साव ने कहा सर्वप्रथम भारतीय जनता पार्टी छत्तीसगढ़ महतारी की सेवा में अपने प्राण न्यौछावर करने वाले उन वीर जवानों की शहादत को प्रणाम करते हुए विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करती है, जिन्होंने राजनांदगांव के बोरतलाब में नक्सल हमले में सर्वोच्च बलिदान दिया। हम व्यथित हैं कि जब हमारे दो बलिदानी जवानों के क्षत विक्षत शव जंगल में पड़े थे तब राजधानी में मुख्यमंत्री, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष, कांग्रेस प्रभारी, कई मंत्रियों सहित बीसियों कांग्रेस नेता भ्रष्टाचारियों के समर्थन में राजीव भवन में आंसू बहा रहे थे। किसी एक ने भी इन शहीदों को नमन तक नहीं किया। नक्सल हमले में हमारे जवान शहीद हो रहे हैं और हमारे साथियों की टारगेट किलिंग हो रही है। कांग्रेस इन शहादतों को दरकिनार कर भ्रष्ट लोगों के साथ खड़ी है।

अब आज के विषय पर हमारा कहना है कि कांग्रेस जिन भ्रष्टाचारियों के लिए रुदन कर रही है, उनके यहां ईडी के छापे में साक्ष्य मिले हैं। संपत्ति बरामद हुई है। प्रवर्तन निदेशालय ED ने 152 करोड़ की संपत्ति अटैच की है। ये ऐड़ी चोटी का जोर लगाने के बावजूद अब तक जमानत नहीं पा सके हैं। जेल में हैं। इनमें छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री की डिप्टी सेक्रेटरी भी शामिल हैं। आईएएस अफसर भी शामिल हैं। स्पष्ट है कि कांग्रेस भ्रष्टाचार में लिप्त है। इसलिए भ्रष्टाचारियों की वकालत कर रही है।

आज ईडी ने जिन लोगों के यहां दबिश दी, वह कोई तात्कालिक कदम नहीं है। ईडी की कार्यवाही पहले से चल रही है। पहले के छापों में मिले साक्ष्य के आधार पर जांच आगे बढ़ रही है। यह स्वाभाविक है कि जांच में जो तथ्य मिलते हैं, उन पर जांच एजेंसी की कार्यवाही का दायरा बढ़ता है। यह ताजा छापे इसी सिलसिले की एक कड़ी हैं। कांग्रेस भयभीत इसलिए है कि ये सब भ्रष्टाचार में संलिप्त है और भेद खुल जाने की चिंता में बौखला कर ईडी की कार्यवाही को बाधित करने का हर संभव प्रयास कर रहे हैं।

कांग्रेस के अधिवेशन से ईडी के छापों को जोड़ने वालों से जनता जानना चाहती है कि क्या ईडी कांग्रेस के कार्यक्रम की समय सारिणी के आधार पर भ्रष्टाचार के खिलाफ जांच करे?

ईडी अपना काम कर रही है और कांग्रेस भ्रष्टाचार के बचाव के लिए इसे अपने राष्ट्रीय अधिवेशन से जोड़ रही है। कांग्रेस बताये कि राष्ट्र में वह है कहां और किस स्थिति में है। अस्तित्व के संकट से जूझ रही कांग्रेस को जितने अधिवेशन करने हैं, शौक से करे लेकिन संवैधानिक संस्थाएं उसके अधिवेशन से कोई वास्ता नहीं रख सकतीं। कांग्रेस जांच का सामना करने से आखिर डर क्यों रही है? क्या भूपेश बघेल ईडी की कार्रवाई से बचने के लिए ही छत्तीसगढ़ में कांग्रेस अधिवेशन के प्रायोजक बने हैं?

प्रेसवार्ता के माध्यम से हम कांग्रेस पार्टी से सवाल करना चाहते है:-
1. ईडी के द्वारा पहले कि गई छापेमारी में मुख्यमंत्री के करीबी अधिकारियों के घर से बेहिसाब नगदी, किलों के वजन में सोना, बेनामी संपत्ति मिल चुकी है इसके बावजूद कांग्रेस पार्टी किस आधार पर भ्रष्टाचारियों के साथ खड़ी हुई है?
2. ईडी ने छत्तीसगढ़ में हुए 540 करोड़ रुपए के भ्रष्टाचार में 277 करोड़ रुपए का लिखित हिसाब दिया है फिर भी कांग्रेस पार्टी किस आधार पर भ्रष्टाचारियों के साथ खड़ी हुई है?
3. भ्रष्टाचार की अवैध उगाही में 170 करोड़ रुपए बेनामी संपत्ति शामिल है। फिर भी कांग्रेस पार्टी किस आधार पर भ्रष्टाचारियों के साथ खड़ी हुई है?
4. छत्तीसगढ़ की गरीब जनता के हक का हजारों करोड़ रुपए लूटे जाने के बाद कांग्रेस पार्टी प्रदेश की ढाई करोड़ जनता की बजाय भ्रष्टाचारियों का साथ किस आधार पर खड़ी है?
5. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल स्पष्ट करें कि जिन आधिकारियों के घर से नगद, ज्वेलरी जब्त कर उन्हें गिरफ्तार किया गया है क्या वो मिली राशि व जवाहरातों में हिस्सेदार है एवं गिरफ्तार किए गए अधिकारियों का समर्थन करते है?

साव ने कहा जहां-जहां पर ईडी की जांच चल रही है वहां सैकड़ों एवं हजारों की संख्या में कांग्रेस के कार्यकताओं को भेजा गया है और ईडी के अफसरो को धमकाया जा रहा है। इससे यह साफ है कि कांग्रेस के नेता ईडी को मिलने वाले साक्ष्यों से घबरा गए है। भयभीत है एवं उन्हें अपनी पोल खुलने का डर सता रहा है।

https://chat.whatsapp.com/F36NsaWtg7WC6t0TjEZlZD
whatsapp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *