ChhattisgarhCorruption

26 जनवरी की झांकी निर्माण में स्वास्थ्य विभाग का निविदा घोटाला !

रायपुर hct : स्वास्थ्य विभाग द्वारा 26 जनवरी को झांकी निर्माण कार्य की निविदा मे घोटाला की खबर प्रकाश में आया है। विभाग, अपनी चहेती फर्म को कार्य देने निविदा का समय बिना अख़बार मे सूचना प्रकाशन किए एक दिन आगे बढ़ाया दिए जाने की खबर से हड़बड़ा गया है।

बगैर कार्य आदेश के रायपुर स्थित पुलिस ग्राउंड मे झांकी निर्माण का कार्य विद्युत गति से अंजाम दिया जा रहा है ! सूत्रों के मुताबिक घोटालेबाज अधिकारी ने जिस फर्म स्वाति मैंनेजमेंट द्वारा शुरू कर दिया गया है; बताया गया कि उक्त फर्म के कर्ताधर्ता उसके बेहद करीबी हैं।

बाकायदा संचालनालय स्वास्थ्य सेवाएं की ओर से संचालक स्वास्थ्य सेवा ने “निविदा का प्रारूप” बनाकर औपचारिकता तो निभा दिया मगर कामचोरों ने विज्ञापन की राशि डकारने के चक्कर में रेवड़ी बाँटने में अपनी अग्रणी भूमिका निभा दिया। देखिए जारी निविदा प्रतिलिपी :–

उक्त प्रारूप में स्पष्ट उल्लेखित है कि, 26 जनवरी 2023 गणतंत्र दिवस के अवसर पर स्वास्थ्य विभाग द्वारा चलित झांकी निर्माण के लिए निविदायें आमंत्रित की जाती है। इच्छुक फर्म के पास शासकीय विभागों का राज्य स्तरीय झांकी निर्माण का 03 वर्षों का अनुभव तथा विगत 3 वर्षों का आयकर रिटर्न तथा 1 करोड़ का टर्नओवर, स्थानीय कार्यालय / दुकान का गुमास्ता एक्ट में पंजीयन अनिवार्य होगा। जिसके लिए निविदा शुल्क 2000 रू का डी.डी. संचालक परिवार कल्याण, छ.ग. के नाम से देय होगा जो वापसी योग्य नहीं होगी। निविदा पत्र प्राप्त करने की तिथि :- 18 से 23 जनवरी 2023 निविदा जमा करने की तिथि: 23 जनवरी अपरान्ह 3 बजे तक।

बता दें कि निविदा जमा करने की अंतिम तिथि 23 जनवरी 2023 की दोपहर 03 बजे तक थी और निविदा खोले जाने की तिथि भी 23 जनवरी 2023 की 04 बजे थी मगर उसे आज खोला जाने वाला है।

प्रावधान है कि किसी भी शासकीय कार्य को किसी भी संस्था को कार्य रूप में दिए जाने के पूर्व उक्त कार्य से सम्बंधित एक निविदा निकाली जाती है लेकिन स्वास्थ्य विभाग के करतूत के चलते बिना अख़बार मे निविदा प्रकाशित के किये 1 दिन बढ़ा दिया है।

https://chat.whatsapp.com/F36NsaWtg7WC6t0TjEZlZD
whatsapp

 

Dinesh Soni

जून 2006 में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा मेरे आवेदन के आधार पर समाचार पत्र "हाइवे क्राइम टाईम" के नाम से साप्ताहिक समाचार पत्र का शीर्षक आबंटित हुआ जिसे कालेज के सहपाठी एवं मुँहबोले छोटे भाई; अधिवक्ता (सह पत्रकार) भरत सोनी के सानिध्य में अपनी कलम में धार लाने की प्रयास में सफलता की ओर प्रयासरत रहा। अनेक कठिनाइयों के दौर से गुजरते हुए; सन 2012 में "राष्ट्रीय पत्रकार मोर्चा" और सन 2015 में "स्व. किशोरी मोहन त्रिपाठी स्मृति (रायगढ़) की ओर से सक्रिय पत्रकारिता के लिए सम्मानित किए जाने के बाद, सन 2016 में "लोक स्वातंत्र्य संगठन (पीयूसीएल) की तरफ से निर्भीक पत्रकारिता के सम्मान से नवाजा जाना मेरे लिए अत्यंत सौभाग्यजनक रहा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button