Uncategorized

मौत : आरक्षक ने अज्ञात कारणों से लगाया फांसी।

कांकेर hct। जिले के चारामा थाने में पदस्थ आरक्षक सतीश उइके ने अपने व्हाट्सएप में बाय बाय लिखकर बाथरूम में जाकर फांसी लगा ली। घर में मौजूद उसकी पत्नी ने जैसे ही आवाज सुनी वो तुरन्त बाथरूम की तरफ दौड़ी और आस-पास के लोगों की मदद से सतीश को चारामा अस्पताल लेकर जा ही रही थी, कि रस्ते में ही उसकी मौत हो गई। सतीश अपनी पत्नी और 4 साल की बेटी के साथ चारामा में किराए के मकान में रहता था।

सतीश के द्वारा उठाए गए इस आत्मघाती कदम को उन्हें जानने वाले हर कोई हैरान है। सतीश के पास से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। ऐसे में पुलिस के लिए उसके मौत की गुत्थी उलझ गई है। सतीश की पत्नी और परिवार सदमे में है, जिसके चलते उनसे पूछताछ नहीं हो सकी है। आरक्षक सतीश के लाश का पोस्टमार्टम के बाद उसके परिजनों को शव सौंप दिया गया, जिसके बाद उसके पैतृक गांव जैसाकर्रा में अंतिम संस्कार किया गया।

चारामा थाना प्रभारी नितिन तिवारी ने बताया कि आरक्षक के आत्महत्या के कारणों का पता नहीं चल सका है। मामले की जांच की जा रही है।

whatsapp group

Dinesh Soni

जून 2006 में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा मेरे आवेदन के आधार पर समाचार पत्र "हाइवे क्राइम टाईम" के नाम से साप्ताहिक समाचार पत्र का शीर्षक आबंटित हुआ जिसे कालेज के सहपाठी एवं मुँहबोले छोटे भाई; अधिवक्ता (सह पत्रकार) भरत सोनी के सानिध्य में अपनी कलम में धार लाने की प्रयास में सफलता की ओर प्रयासरत रहा। अनेक कठिनाइयों के दौर से गुजरते हुए; सन 2012 में "राष्ट्रीय पत्रकार मोर्चा" और सन 2015 में "स्व. किशोरी मोहन त्रिपाठी स्मृति (रायगढ़) की ओर से सक्रिय पत्रकारिता के लिए सम्मानित किए जाने के बाद, सन 2016 में "लोक स्वातंत्र्य संगठन (पीयूसीएल) की तरफ से निर्भीक पत्रकारिता के सम्मान से नवाजा जाना मेरे लिए अत्यंत सौभाग्यजनक रहा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button