अब खेतों पर फसल नहीं लहलहाते, धधकती हैं ईंट भट्टियाँ !
इन अवैध भट्टों की कमीशन से भर जाती है पटवारी की कोठियां…

बालोद hct : जिला में अवैध ईंट भट्टा कोई बड़ी बात नहीं है, हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने लाल ईंट भट्टा पर रोक लगाने की बात अपने आदेश जारी करते हुए वर्षों पहले कह दिया है। हां, उन आदेशों का पालन सही मायने में नहीं हो पा रहा है यह एक बड़ा सवाल है। माननीय सर्वोच्च न्यायालय और NGT के आदेशों का पालन करने और करवाने हेतू सरकार ने हर जगह कर्मचारी और अधिकारी नियुक्त किए हुए है, जिन्हें आम जनता के काठी मेहनत और पसीने की कमाई से प्रति माह वेतन और तनख्वाह दिया जाता है।

सर्वोच्च न्यायालय और NGT की अवहेलना

माननीय सर्वोच्च न्यायालय और NGT ने लाल ईंट भट्टा को पर्यावरण संरक्षण के दृष्टिकोण से अनुपयोगी मानते हुए इस पर रोक लगाने का आदेश दिया है। आदेश में कहा गया है कि, लाल ईंट भट्टा में लाल ईंटों को पकाने हेतू प्राकृतिक तौर पर इस्तेमाल होने वाले इधन से मानव जीवन पर खतरा बना रहता है और यही मानव अपनी रात दिन मेहनत से कमाई हुई पैसों को अधिकारी और कर्मचारियों को वेतन देने हेतू सरकार को टैक्स के रूप में दान करती है, ताकि उनके सेवा हेतू पदस्थ अधिकारी और कर्मचारियों को उनकी मेहनताना सही समय पर मिल सके।

जब जनता के हितों से जुड़े हुए मुद्दों पर अधिकारी और कर्मचारी खामोश होकर शांत बैठे रहे तो माननिय उच्च न्यायालय और NGT के आदेशों का क्या फायदा ? प्रदेश में लगातार कृषि योग्य भूमि का गलत तरीके से उपयोग किया जा रहा है; जिसमें शासन और प्रशासन से जुड़े हुए अधिकारियों की भूमिका संदेहास्पद है। ज्ञात हो कि यह नाजारा बालोद जिला अंतर्गत भी वर्षों से देखी जा रही है, जिस पर जिला प्रशासन ने अब तक माकूल कार्यावाही नही किया है परिणामस्वरूप जिला में लाल ईंट भट्टों का मकड़जाल में जिला के कृषि योग्य भूमि पर भी लाल सोने की फसल लहलहा रही है !

whatsapp group

By Dinesh Soni

जून 2006 में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा मेरे आवेदन के आधार पर समाचार पत्र "हाइवे क्राइम टाईम" के नाम से साप्ताहिक समाचार पत्र का शीर्षक आबंटित हुआ जिसे कालेज के सहपाठी एवं मुँहबोले छोटे भाई; अधिवक्ता (सह पत्रकार) भरत सोनी के सानिध्य में अपनी कलम में धार लाने की प्रयास में सफलता की ओर प्रयासरत रहा। अनेक कठिनाइयों के दौर से गुजरते हुए; सन 2012 में "राष्ट्रीय पत्रकार मोर्चा" और सन 2015 में "स्व. किशोरी मोहन त्रिपाठी स्मृति (रायगढ़) की ओर से सक्रिय पत्रकारिता के लिए सम्मानित किए जाने के बाद, सन 2016 में "लोक स्वातंत्र्य संगठन (पीयूसीएल) की तरफ से निर्भीक पत्रकारिता के सम्मान से नवाजा जाना मेरे लिए अत्यंत सौभाग्यजनक रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.