ChhattisgarhCrime

माँ ने थाने में लगाई गुहार, कहा : “मेरे बेटे को जलाकर मारा गया” !

मिथुन की हत्या या आत्महत्या ? मामला “प्रेम प्रसंग” का

*लक्ष्मी नारायण लहरे (कोसीर)

कोसीर (सारंगढ) hct। मुख्यालय के ग्राम पचपेड़ी में 25 दिसम्बर 2021 को सुबह से क्रिसमस का त्यौहार मसीही परिवारों के द्वारा धूमधाम से मनाया जा रहा था और सभी लोग ईशा मसीह के प्रार्थाना में लीन थे। इस प्रार्थाना कार्यक्रम में सारंगढ मौहारभाठा (कुटेला ) निवासी श्रीमती कलश बाई जोल्हे और उसका पुत्र मिथुन जोल्हे भी पहुंचे थे।

लोग प्रार्थना में मशगूल थे तभी मिथुन अपने माँ को अपने मोबाईल को देता है औऱ कहता है मैं आ रहा हूँ। उसकी मां प्रार्थना स्थल में लीन हो जाती है। उधर उसका पुत्र मिथुन माँ, माँ चिल्लाते हुए प्रार्थाना सभा की ओर आग में जलते हुए भागा आता है। वह उसके आवाज को पहचान लेती है और अपने बेटे के पास जाने के लिए तिलमिलाती है , पर कुछ लोग उसे रोक लेते है यह सभी वाक्या मिथुन की माँ देखती रही तभी दो लोग पीछे से जल रहे मिथुन को धक्का मारते हैं और मिथुन वहीं जलते हुए गिर जाता है और उसकी मौत हो जाती है।

किसके पास गया ऐसा क्या हुआ यह बात अभी भी काल के गर्भ में है

विदित हो माँ उस समय भी वहां जाना चाहती है पर कुछ देर के लिए अभोल हो जाती है, ऐसा मिथुन की माँ का कहना है। आखिर प्रार्थना स्थल से मिथुन कहाँ गया ? किसके पास गया ऐसा क्या हुआ यह बात अभी भी काल के गर्भ में है। सारंगढ पुलिस के द्वारा इस घटना में उस दिन पंचनामा कर मर्ग कायम कर शव को परिवार को सौंप दिया गया था। पुरी घटना एक ओर आत्महत्या की लग रही है ? मिथुन की माँ कलश बाई जोल्हे ने आज सारंगढ थाने में एक आवेदन दी है जिसमें उन्होंने जलाकर मारने के सम्बंध में जांच की मांग की है और यही नहीं उसके पुत्र के अंतरंग के सम्बंध में भी पुलिस को जानकारी देते हुए प्रताड़ना और जलाकर मारने की आरोप लगाई है।

क्या है ? पूरा मामला…

मिथुन की माँ अपने बेटे के अंतरंग के बारे में अपने आवेदन में सारंगढ पुलिस के समक्ष बात रखी है। जिसमें कहा गया है कि – “मेरा बेटा अभी सारंगढ में पढ़ाई कर रहा था वह ग्राम पचपेड़ी के युवती रागनी से (परिवर्तित नाम) प्रेम करता था। दोनों में बहुत प्यार था रागनी कॉलेज में पढ़ती है वह एक दिन हमारे घर अक्टूबर में आयी तब उससे पूछ -ताछ की तब वह बताई मैं मिथुन से प्यार करती हूं, शादी करना चाहते हैं।” तब मैंने उसे उसके घर जाने को कही। उस दिन से वह कई बार हमारे घर में आई थी, खाना खाकर भी जाती थी।

मेरे बेटे और रागनी में बहुत प्रेम था दोनों शादी करना चाहते थे।23 अक्टूबर 2021 की बात है, इस दिन मेरा पुत्र मिथुन रागनी के घर पचपेड़ी गया और विवाह की बात रखा पर जब रागनी के घर से लौटा तो मैंने अपने पुत्र से पूछा तब वह बताया कि – “उसके पिता ने धक्के मार कर निकाल दिया था। इस घटना से वह बहुत परेशान था। पर दोनों में बहुत प्रेम था। वह अक्सर उसे पचपेड़ी बुलाती थी और वहाँ के चर्च में प्रार्थना में भेंट होते थे।” इस तरह अपने आवेदन में बात रखी है।

मिथुन को आत्महत्या करना पड़ा या उसकी हत्या हो गई ?

कलश बाई द्वारा रागनी के पिता पर प्रताड़ित करने और जलाकर मारने की आरोप लगाई है और षडयंत्रकारियों पर उचित कार्यवाही की मांग की है। वही उनके मोबाईल की जांच की मांग भी किया गया है। आखिर दोनो में इतना प्रेम था तो ऐसा क्या हुआ कि – मिथुन को आत्महत्या करना पड़ा या उसकी हत्या हो गई ? यह बात काल के गर्भ में है कि – आखिर 25 दिसम्बर को दोपहर उसके साथ क्या हुआ था । अब यह जांच का विषय है आखिर दोषी कौन ? मिथुन ने आत्महत्या किया या हत्या की गई है ?

विवेचक लक्ष्मण पुरी (सहायक उप निरीक्षक) का कहना है कि – “यह मामला आत्महत्या का है, क्योंकि मिथुन अपने घर से ही मिट्टी तेल लेकर आया था और ग्रहण के खेत में उसे छुपाया था। मां को मोबाइल देकर 5 में मिनट बाद आने की बात कहने वाला मिथुन पहले जहर पिया, उसके बाद अपने शरीर में मिट्टी तेल डालकर आग लगा ली। साथ ही साथ वह जलते हुए कार्यक्रम स्थल की ओर दौड़ते हुए भागा जहां उसकी प्रेमिका गीत गा रही थी। अन्य लोग आग की चपेट में ना आ पायें इसलिए रसोइयों के द्वारा कंबल डाला गया इस दरमियान कंबल डालते समय मिथुन गिर पड़ा और उसकी मौत जलने से हो गई।” पीएम रिपोर्ट में भी मौत का कारण जलने से बताया गया है।

whatsapp group

Kavita Gendre

प्रेरक प्रवक्ता, समाज सेविका। अध्यक्षा "आँचल नारी सशक्तिकरण एवं प्रशिक्षण समिति", ग्राम : अर्जुनी, टिकरी (अर्जुन्दा) विकासखंड : गुंडरदेही, जिला बालोद (छ०ग०) कार्यक्षेत्र : महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र में महिलाओं को जागरूक करना, बाल-विवाह, दहेज प्रथा की रोकथाम, पति-पत्नि के बीच उपजे विवाद को सुलझाकर आपसी सामंजस्य स्थापित करना, स्वास्थ्य एवं स्वच्छता, बेटी बचाओ बेटी पढाओ, कुपोषण, बंधुआ मजदूरी आदि के लिए कार्यरत। E-mail : kavitagendre1@gmail.com

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button