तौल मशीन में गड़बड़ी, धान खरीदी केन्द्र बेलटुकरी में किसानों से लूट…

गरियाबंद/राजिम (hct)। प्राथमिक कृषि साख सहकारी समिति बेलटुकरी उपार्जन केंद्र में फड़ प्रभारी खेलावन साहू की मनमानी के कारण 800 ग्राम से एक किलो तक अधिक धान किसानों से लिया गया है जो सीधे तौर पर किसानों के साथ धोखाधड़ी और खरीदी केन्द्र में भ्रष्टाचार है।

मंगलवार को धान बेचने आये ग्राम किरवई के किसान देवलाल पिता रामदयाल साहू 113 बोरी सरना धान 45 क्विंटल 20 किलो तौल कर लाये थे , किन्तु जब खरीदी केंद्र में तौल किया गया तो करीब 80 किलो धान कम पाने से उन्हें शक हुआ। किसान देवलाल एक बोरी धान पुनः उसी जगह ले गये ,जहाँ पहले तौल किया गया था। वहाँ पर वजन सही पाया गया , वापस खरीदी केंद्र आकर किसान ने फड़ प्रभारी खेलावन साहू से इसके बारे में बात की,और तौल मशीन की जांच करवाई तब 800 ग्राम का फर्क पाया गया।

कुछ स्थानीय जनप्रतिनिधियों एवं किसानों ने बुधवार खरीदी केंद्र पहुंचकर किसानों के साथ पूर्व में खरीदी हुए स्टेक लगे धान का तौल कराया गया तो प्रति बोरी 700 से 800 ग्राम धान अधिक पाया गया। जिसकी शिकायत मोबाइल द्वारा कलेक्टर गरियाबंद, एस डी एम एवं तहसीलदार राजिम और खाद्य विभाग के अधिकारियों को दी गई। एस डी एम, तहसीलदार, नायाब तहसीलदार, जिला पंचायत सदस्य रोहित साहू, किसान नेता तेजराम विद्रोही और सैकड़ों किसानों की उपस्थिति में 22 स्टेक की जांच की गई जिसमें कई बोरी में एक से डेढ़ किलो अतिरिक्त था। औसतन 800 ग्राम प्रति बोरी किसानों से अतिरिक्त लिया जाना साबित हुआ।

तौल मशीन में गड़बड़ी

फड़ प्रभारी खेलावन साहू द्वारा अपने पुत्र जो राजिम में तौल मशीन बनाने का काम करता है उसे खरीदी केन्द्र बुलाकर आनन फानन में तौल मशीन को ठीक करा ली गई और मंगलवार की पारी में धान तौल करा चुके 58 किसानों को 38 क्विंटल धान वापस कर मामले को रफा दफा करने का प्रयास किया गया। लेकिन बुधवार को हुए सभी स्टेको के निरक्षण में 9 लाख 31 हजार से अधिक का भ्रष्टाचार उजागर हुआ है।

जानकारी के अनुसार एक दिसम्बर से अब तक 24 हजार क्विंटल अर्थात 60 हजार बोरी धान की खरीदी हुई है जिसमें से 480 क्विंटल 9 लाख 31 हजार 200 रुपये मूल्य का धान किसानों से अधिक लिया गया है जो सरासर किसानों से लूट है। जब फड़ प्रभारी द्वारा मंगलवार को अतिरिक्त तौल के एवज में किसानों को धान वापस किया गया है तो 20 दिसम्बर तक विक्रय किये किसानों को प्रति एकड़ 30 किलो की दर से धान वापस किया जाना चाहिए।

एक दिसम्बर से धोखाधड़ी का खेल

पुरी जांच प्रकिया के दौरान उपस्थित रहे जिला पंचायत सदस्य रोहित साहू ने कहा कि किसानों के साथ एक दिसम्बर से धोखाधड़ी हो रही है। लेकिन कांग्रेस पार्टी के बड़े जन प्रतिनिधि और उनकी निगरानी समिति के सदस्यों को जब एक दिन पहले से ही किसानों की लूट के बारे में जानकारी थी तब भी एक भी नेता किसानों की सुध लेने नहीं आये। यही कारण है कि यहाँ के नोडल अधिकारी नदारत रहते है। जिसके कारण फड़ प्रभारी द्वारा अपने बेटे के साथ मिलकर तौल कांटा में छेड़खानी की गई और किसानों से अधिक धान तौल किया गया है। अब फड़ प्रभारी, नोडल अधिकारी सहित सभी दोषियों को तत्काल प्रभाव से बर्खास्त किये जाने की मांग की जा रही है।

whatsapp group

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *