छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने DGP से कहा- तत्काल बैठक कर सुनिश्चित करें !
गांजा तस्करों के लिए छत्तीसगढ़ बना गोल्डन रूट रोजाना सैकड़ों क्विंटल गांजा की सप्लाई।

Ad space

“छत्तीसगढ़ पुलिस का कहना है कि ओडिशा में गांजे का उत्पादन हो रहा है, जहां से देश भर के राज्यों में इसकी तस्करी हो रही है गांजा की खेती के लिए उड़ीसा विश्व विख्यात हो चुकी है।”

जशपुर (Desk) में दुर्गा प्रतिमा विसर्जन जुलूस में हुए कार हादसे के बाद सरकार अचानक कई मोर्चों पर सक्रिय हो गई है तो वंही छत्तीसगढ़ सरकार की भी मामले में किरकिरी हुई है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गांजा तस्करी रोकने के लिए सख्ती के निर्देश दिए हैं ,तो वंही राज्य के शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में गांजा की अवैध बिक्री चरम पर है, महिलाएं बेंच रही है खुलेआम गांजा पुलिस से खास पहचान होने तक की बात कहते है अवैध गांजा का व्यापार करने वाले लोग। मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ और ओडिशा के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की बैठक बुलाने का निर्देश दिया है ताकि गांजा की अवैध तस्करी को रोका जा सके।

मुख्यमंत्री ने राज्य के पुलिस महानिदेशक और विशेष पुलिस महानिदेशक नक्सल ऑपरेशन को तत्काल इस दिशा में पहल करते हुए आवश्यक समन्वय सुनिश्चित करने को कहा है। छत्तीसगढ़ और ओडिशा के पुलिस अधिकारियों की उच्च स्तरीय बैठक में छत्तीसगढ़ के पुलिस महानिदेशक और पुलिस महानिरीक्षक इंटेलिजेंस के साथ-साथ सीमावर्ती जिले के पुलिस अधीक्षक और ओडिशा पुलिस के उच्चाधिकारी शामिल होंगे।

बताया जा रहा है, इस बैठक में ओडिशा में गांजा उत्पादकों पर कार्रवाई से लेकर तस्करी के रूट और गिरोह आदि की सूचनाएं साझा की जाएंगी। वहीं तस्करी रोकने के उपायों पर साझा रणनीति बनाने की कोशिश होगी। मुख्यमंत्री ने जशपुर कार हासदे के बाद कहा था, ओडिशा सरकार को भी यह देखना चाहिए कि इतना गांजा कहां से आ रहा है।

सीमाओं पर चेकपोस्ट की फिर उठी बात

मुख्यमंत्री ने पुलिस महानिदेशक को गांजा तस्करी को रोकने के लिए ठोस कार्ययोजना बनाने को कहा है। इसके लिए सीमावर्ती चेक पोस्ट में CCTV कैमरे की व्यवस्था के साथ ही 24 घंटे निगरानी के लिए पुलिस बल तैनात करने को कहा है। कलेक्टर और पुलिस अधीक्षकों को स्थायी चेक पोस्ट बनाने को कहा गया है।

पहले भी जारी हुआ है आदेश, नहीं बने चेकपोस्ट

डीजीपी ने पहले भी सीमावर्ती जिलों में ऐसे चेकपोस्ट बनाने का आदेश दिया हुआ है। लेकिन अभी तक अधिकांश जिलों में ऐसे चेकपोस्ट सक्रिय नहीं हो पाए हैं। जहां चेकपोस्ट बने भी वहां होमगार्ड को तैनात किया गया है । ज्ञात हो , कि उड़ीसा राज्य के कई हिस्सों में गांजा की खेती अवैध रूप से होती आ रही है , पुलिस कई दफ्फा गांजे की खेतों में जाकर करते हैं कार्यवाही । राज्य के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में ज्यादा खेती तो वंही छत्तिसगढ़ राज्य में भी भारी खपत शराब के बाद देश में गांजा दुसरा सबसे बड़ा नशा , छत्तिसगढ़ राज्य के बस्तर , धमतरी , महासमुंद , गरियाबंद के रास्ते गांजा की सबसे ज्यादा सप्लाई … छत्तीसगढ़ राज्य के कई बड़े शहरों में गांजा की खुलेआम व्यापार , पुलिस की संरक्षण में चल रहा है खुलेआम अवैध धंधा , जबकि जशपुर हासदे के बाद छत्तिसगढ़ सरकार गांजा तस्करी करने वाले लोगों को दबोचने के फिराक में है।

whatsapp group

 

 

ad space

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here