Ad space

सन 1981 में भारतीय सिने पटल पर एक चलचित्र “प्रेम गीत” (फिल्म) का प्रदर्शन हुआ था, इस फिल्म में जगजीत सिंह के स्वर में एक गीत का अंतरा था “ना उम्र की सीमा हो ना जन्म का हो बंधन … ” हकीकत भी यही है। वे दोनों एक दूसरे को बेहद पसंद करते हैं और एक दूसरे के साथ रहना चाहते हैं। कहते हैं प्यार अँधा होता है और उसकी कोई उम्र नहीं होती…

चंडीगढ़ (hct desk)। ‘ना उम्र की सीमा हो… ‘ इस अन्तरे को चरितार्थ करता; एक ‘बेमेल’ प्रेमी जोड़ा के हरियाणा हाई कोर्ट में पंहुचने पर मामले को मीडिया में उछलते देर नहीं हुई। इस प्रेमी जोड़ी की कहानी ही कुछ अलग है। इसमें प्रेमिका 19 साल की है और प्रेमी 67 साल का। दोनों ने शादी कर ली। चंडीगढ़ में अजब प्रेम की गजब कहानी जैसे इस मामले ने बड़ी तेजी से सोशल मीडिया को जकड़ लिया।

अब इस प्रेमी जोड़े को अपने परिवार से जान का खतरा लग रहा है। ऐसे में उन्‍होंने सुरक्षा के लिए हाई कोर्ट में गुहार लगाई है। इस अजीब बेमेल प्रेमी जोड़े को देखकर हाई कोर्ट के जज भी चौंक गए। मामले की गंभीरता को देखते हुए हाई कोर्ट ने तुरंत एसपी पलवल को तुरंत जांच के आदेश जारी कर दिए।

‘दिल दा’ मामला निकला

मंगलवार दिनांक 10 अगस्त 2021 को पलवल एसपी दीपक गहलावत ने एक जांच रिपोर्ट पेश की, जिसमे प्रेमी जोड़े को सही पाया। उन्होंने हाईकोर्ट में सौंपी रिपोर्ट में बताया कि लड़की पर इस मामले में कोई दबाव नहीं था। 19 साल की लड़की द्वारा 67 साल के उम्रदराज व्यक्ति से विवाह करने के मामले में किसी भी तरह के दबाव या साजिश की आशंका से इन्कार किया गया है। कुल मिलाकर यह ‘दिल दा’ मामला निकला। हाई कोर्ट के आदेश पर लड़की को एसडीएम हथीन के सामने पेश कर बयान दर्ज करवाए गए, जिसमें उसने साफ कर दिया कि उसने अपनी मां की सहमति लेकर यह विवाह किया है। उस पर किसी भी तरह का दबाव नहीं है।

दोनों शादीशुदा निकले लेकिन…

जांच में यह भी उजागर हुआ कि दोनों का यह दूसरा विवाह है। पुरुष के सात बच्चे हैं और सभी विवाहित हैं। और उसके पत्नी की मौत हाे चुकी है। लड़की का भी पिछले साल जुलाई में राजस्थान में विवाह हुआ था। उसका पति जीवित है, लेकिन उसे तलाक दिए बगैर लड़की ने यह विवाह किया है। हाई कोर्ट में दी जानकारी के अनुसार लड़की के परिवार वाले इस विवाह के खिलाफ थे। इस बाबत उन्होंने पलवल पुलिस के सामने भी सुरक्षा की गुहार लगाई थी, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। लड़की की तरफ से दलील दी गई कि उसके परिवार वाले प्रभावशाली हैं, जिनकी पुलिस तक अच्छी पकड़ है और वे उनको जान से मार देंगे।

Donate button (Touch & Pay)

जांच दल ने उसके पहले पति के भी बयान दर्ज किए, जिसने कहा कि उसने उसे तलाक नहीं दिया। जांच दल की रिपोर्ट के बाद प्रेमी जोड़े ने कहा कि वह अपनी याचिका वापस लेना चाहते हैं। इस पर कोर्ट ने कहा कि इस बाबत वह हाई कोर्ट में एक अर्जी दायर करें। इसी के साथ हाई कोर्ट ने मामले की सुनवाई स्थगित कर दी।

whatsapp group

ad space

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here